दैनिक भास्कर हिंदी: सामने आईं बालाकोट एयर स्ट्राइक की तस्वीरें, दिख रहे तबाही के निशान

March 6th, 2019

हाईलाइट

  • बालाकोट एयर स्ट्राइक की तस्वीरें सामने आ गई हैं।
  • तस्वीरों में दिखाई दे रहे हैं बालाकोट में तबाही के निशान।
  • बालाकोट में वायुसेना के 80 फीसदी निशाने सही लगे हैं।

डिजिटल, नई दिल्ली। पाकिस्तान के बालाकोट में की गई भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक की तस्वीरें सामने आ गई हैं। इन तस्वीरों में साफतौर पर तबाही के निशान दिखाई दे रहे हैं। दरअसल पाकिस्तान में घुसकर आतंकी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले को लेकर विपक्षी दल सरकार से सबूत मांग रहे हैं। इसके बाद एयर स्ट्राइक की 12 तस्वीरें सामने आई हैं। बालाकोट हमले से पहले और बाद की तस्वीरों को देखकर ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि एयर स्ट्राइक से बालाकोट में कितनी तबाही मची।

80 फीसदी निशाने सही लगे
दरअसल, यह पूरा विवाद अतंर्राष्ट्रीय मीडिया की उस रिपोर्ट के बाद शुरू हुआ, जिसमें तस्वीरों के आधार पर दावा किया गया था कि, एयर स्ट्राइक के बाद भी बालाकोट में बिल्डिंग्स खड़ी हैं। इसी बीच बुधवार को वायुसेना ने केंद्र सरकार को एयर स्ट्राइक से जुड़े सभी दस्तावेज सौंप दिए। इन सबूतों में एयरस्ट्राइक की तस्वीरें भी शामिल हैं। इसमें ये भी बताया गया है कि किस तरह उनके अधिकतर निशाने सही लगे हैं। वायुसेना ने सरकार को 12 पेज की रिपोर्ट सौंपी है। इसमें बालाकोट के उस क्षेत्र की हाई रिजोल्यूलेशन तस्वीरें भी शेयर की गई हैं। वायुसेना की रिपोर्ट के अनुसार, बालाकोट में उनके 80 फीसदी निशाने सही लगे हैं। जिन बमों को दागा गया वह वहां मौजूद बिल्डिंगों के सीधे अंदर गए हैं। इसलिए जो भी तबाही हुई है वह इमारतों के अंदर ही हुई।


भारतीय मिसाइल ने कई बिल्डिंग्स को तबाह किए
एयर स्ट्राइक के सबूत के तौर पर 12 तस्वीरें सामने आई हैं। तस्वीरों में हवाई हमले के नुकसान के निशान स्पष्ट तौर पर दिखाई दे रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक भारत की ओर से की गई एयर स्ट्राइक ने बालाकोट में भारी तबाही मचाई। भारतीय मिसाइल ने जैश-ए-मोहम्मद के ट्रेनिंग कैंप की बिल्डिंग्स को तबाह कर दिया था। तस्वीरों से पता चलता है कि भारतीय मिसाइलों से बिल्डिंग्स में कई छेद हुए। रिपोर्ट का दावा है, ये जरूरी नहीं है कि बंकर बस्टिंग मिसाइलों के हमले में इमारत पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएं। जानकारी के मुताबिक, जिस मिसाइल का भारतीय वायुसेना ने इस्तेमाल किया था, वह सीधे बिल्डिंग में लगी है और चार काले निशान दिखाई दे रहे हैं। रिपोर्ट में पोकरण में इस्तेमाल बंकर बस्टर मिसाइल के पेनेट्रेशन वीडियो को भी दिखाया गया है, जिसमें साफ दिखाई देता है कि मिसाइल के लगने के बाद भी बिल्डिंग पूरी तरह से ध्वस्त नहीं होती है। 

तस्वीरों में कुछ पेड़ भी नष्ट दिखे
हालांकि सेटेलाइट तस्वीरों के आधार पर कुछ मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि बालाकोट कैंप की इमारतें पहले की तरह ही खड़ी हैं और उन्हें कोई नुकसान नहीं हुआ है। दूसरी ओर भारतीय वायुसेना ने साफ कहा है कि उसने अपने टारगेट को पूरी मजबूती से हिट किया है। रिपोर्ट के मुताबिक जरूरी नहीं कि मिसाइल बिल्डिंग के सुपर स्ट्रक्चर को ध्वस्त करे। हालांकि तस्वीर में बिल्डिंग डैमेज दिख रही है। स्पाइस 2000 ग्लाइड बम का भारत ने इस्तेमाल किया था जो स्पेशल तौर पर टारगेट को नष्ट करती है। तस्वीरों में कुछ पेड़ भी नष्ट दिखाई दिए हैं। 

पुलवामा हमले के बाद की गई एयर स्ट्राइक
गौरतलब है कि 14 फरवरी को जैश ने पुलवामा में आतंकी हमला करवाया था। जिसके खिलाफ भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर जैश के ठिकानों को तबाह किया। एयर स्ट्राइक में सेना ने मिराज-2000 का इस्तेमाल कर जैश के ठिकानों को तबाह कर दिया था। वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान लगातार दावा कर रहा था कि उनका कोई नुकसान नहीं हुआ है, सिर्फ कुछ पेड़ ही गिरे हैं।