दैनिक भास्कर हिंदी: पाक नेशनल डे पर पीएम मोदी का इमरान को संदेश, कांग्रेस ने उठाए सवाल

March 23rd, 2019

हाईलाइट

  • पाकिस्तान नेशनल डे पर पीएम मोदी ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान को संदेश भेजा है।
  • पाकिस्तानी पीएम ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।
  • पीएम मोदी ने कहा, मैं पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर पाकिस्तान के लोगों को शुभकामनाएं देता हूं।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पाकिस्तान नेशनल डे पर भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान को संदेश भेजकर पाक की जनता को शुभकामनाएं दी है। पाकिस्तानी पीएम ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। कांग्रेस इस संदेश के बाद पीएम मोदी से सवाल पूछती हुई दिखाई दे रही है। 

पीएम मोदी ने कहा, 'मैं पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस पर पाकिस्तान के लोगों को शुभकामनाएं देता हूं। यह ऐसा समय है कि उपमहाद्वीप के लोग आतंक और हिंसा से मुक्त वातावरण में एक लोकतांत्रिक, शांतिपूर्ण, प्रगतिशील और समृद्ध क्षेत्र के लिए मिलकर काम करें।'

 

 

इमरान खान ने पीएम मोदी के संदेश वाले ट्वीट के बाद एक और ट्वीट किया। इस ट्वीट में इमरान ने कहा कि 'मैं हमारे लोगों के लिए पीएम मोदी के संदेश का स्वागत करता हूं। जैसा कि हम पाकिस्तान दिवस मनाते हैं, मेरा मानना ​​है कि यह भारत के साथ एक व्यापक बातचीत शुरू करने और सभी मुद्दों को हल करने, खासकर कश्मीर के मुद्दे का समाधान करने और हमारे सभी लोगों के लिए शांति और समृद्धि पर आधारित एक नया संबंध बनाने का समय है।

इमरान खान के इस ट्वीट के बाद भारतीय राजनीति में एक बार फिर हलचल शुरू हो गई है। कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा,  'मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री मोदी इस बात को स्पष्ट करेंगे कि इमरान खान ने जो ट्वीट किया है उसका क्या मतलब है। खासकर तब जब भारत ने पाकिस्तान नेशनल डे को बायकॉट करने का फैसला लिया है। देश भी ये जानना चाहेगा...' 

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि 'पीएम मोदी के पाक पीएम को भेजे गए संदेश के बाद मैं दोनों देश के रिश्तों को लेकर कंफ्यूज हो गया हूं।' 

बता दें कि केंद्र सरकार ने नई दिल्ली में आयोजित किए गए पाकिस्तान नेशनल डे के कार्यक्रम का बहिष्कार करने का फैसला किया था। इस कार्यक्रम में कश्मीरी अलगाववादियों को आमंत्रित किया गया था जिस कारण ये फैसला लिया गया था। विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि इस्लामाबाद में आयोजित ऐसे कार्यक्रमों में भी कोई भारतीय प्रतिनिधि शामिल नहीं होगा।