comScore

शाह ने राहुल गांधी से पूछा, क्यूं भाई घुसपैठिए आपके चचेरे भाई लगते हैं क्या?


हाईलाइट

  • शाह ने कहा- 2024 से पहले हमारी सरकार पूरे देश में एनआरसी लागू करेगी
  • भाजपा चुन-चुनकर एक-एक घुसपैठियों को बाहर निकालने का काम करेगी
  • कांग्रेस अपने 55 साल का शासन और हमारे 5 साल का शासन का हिसाब लेकर मैदान में आ जाएं

डिजिटल डेस्क, रांची। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन) मुद्दे पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर तीखा हमला किया। उन्होंने झारखंड के चक्रधरपुर और बहरागोड़ा में चुनावी जनसभा को संबोधित ​करते हुए कहा कि ये राहुल बाबा कहते हैं कि NRC क्यूं ला रहे हो? घुस्पैठियों को क्यूं निकाल रहे हो? कहां जाएंगे, क्या करेंगे? क्यूं भाई आपके चचेरे भाई हैं लगते हैं क्या? 2024 के पहले देश से एक-एक घुसपैठियों को चुन-चुनकर निकालने का काम भाजपा सरकार करने वाली है।   

उन्होंने 2024 से पहले देश में एनआरसी लागू करने की बात कही। शाह ने कहा कि जब मैं 2024 में आपसे वोट मांगने आऊंगा, तो उससे पहले हमारी सरकार पूरे देश में एनआरसी लागू करके एक-एक घुसपैठिए को बाहर निकालेगी।

चुनावी सभा के दौरान गृहमंत्री ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को सीधी चुनौती देते हुए कहा कि राहुल जब चाहें अपने शासनकाल का हिसाब-किताब लेकर मैदान में आ जाएं। शाह ने कहा कि आज राहुल गांधी झारखंड आए हैं। मैं उन्हें चुनौती देने आया हूं कि वो अपने 55 साल का शासन और हमारे 5 साल का शासन का हिसाब लेकर मैदान में आ जाएं। भाजपा ने विकास की गंगा को आदिवासी दलित समाज के घर पहुंचाने का काम किया है।

गृहमंत्री अमित शाह चक्रधरपुर में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और भाजपा प्रत्याशी लक्ष्मण गिलुवा और बहरागोड़ा से भाजपा उम्मीदवार कुणाल शांड़ंगी के समर्थन में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे थे। 

शाह ने इस चुनावी रैली में महिलाओं से एक बड़ा वादा करते हुए कहा कि हमने तय किया है कि हमारी सरकार आने पर महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 30 प्रतिशत आरक्षण देकर महिलाओं को रोजगार देने का काम भारतीय जनता पार्टी करेगी। उन्होंने कहा कि घोषणा पत्र में हमनें तय किया है कि भाजपा सरकार बनते ही आदिवासियों और दलितों के आरक्षण के लिए और ओबीसी समाज का आरक्षण बढ़ाने के लिए कमेटी की गठन किया जाएगा।
 
अमित शाह ने कहा कि झारखंड के लिए जब आंदोलन चल रहा था, तो कांग्रेस पार्टी उस आंदोलन को कुचल रही थी, और आज हेमंत सोरेन उसी कांग्रेस पार्टी की गोदी में बैठकर मुख्यमंत्री बनने के लिए निकले हैं। उनका उद्देश्य सत्ता प्राप्त करना है और भाजपा का उद्देश्य झारखंड को विकास के रास्ते पर आगे लेकर जाना है।

झारखंड विधानसभा चुनाव के तहत दूसरे चरण में 7 दिसंबर को 20 सीटों पर मतदान हैं। इनमें सिमडेगा, बहरागोड़ा, घाटशिला, पोटका, जुगसलाई, जमशेदपुर पूर्वी, जमशेदपुर पश्चिमी, सरायकेला, चाईबासा, मझगांव, जगन्नाथपुर, मनोहरपुर, चक्रधरपुर, खरसांवा, तमाड़, तोरपा, खूंटी, मान्डर, सिसई, और कोलेबरा सीट शामिल हैं।

कमेंट करें
vydbq