दैनिक भास्कर हिंदी: केरल: बाढ़ के बाद गंभीर बीमारियों से निपटने के लिए केन्द्र ने की ये तैयारियां

August 22nd, 2018

हाईलाइट

  • केरल इस वक्त भीषण बाढ़ की चपेट में है।
  • केंद्र सरकार वहां फंसे स्थानीय लोगों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने मंगलवार को कहा कि केरल में लोगों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए सरकार गंभीर है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केरल में फिलहाल बारिश थमने से कुछ राहत मिली है। राहत और बचाव कार्य तेज हुए हैं, लेकिन इसके साथ ही बीमारियों का डर भी सता रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने मंगलवार को कहा कि केरल में लोगों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए सरकार गंभीर है। इस खतरे से निपटने के लिए सरकार की तरफ से 12 टीमें गठित की गई हैं। वहीं बीमारियों के इलाज के लिए दस विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम भी तैयार की गई है। बता दें कि केरल में बारिश और बाढ़ से अब तक 375 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं हजारों बेघर लोग राहत शिवरों में रहने को मजबूर हैं।

नड्डा ने कहा कि बाढ़ के हालात को देखते हुए हर दिन मीटिंग रखी जा रही हैं। वहीं हालात की समीक्षा के लिए एक टीम बेंगलुरू से कोडागु (कर्नाटक) भी भेजी जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, '65 मीट्रिक टन दवाएं त्रिवेंद्रम भेजी जा चुकी हैं। बीमारियों को फैलने से रोकने के लिए चार करोड़ क्लोरीन टेबलेट्स की आवश्यकता है, जिसमें से सरकार ने एक करोड़ टेबलेट केरल पहुंचा दी हैं, जबकि कल 1 करोड़ टेबलेट और भेजी जाएंगी।'

वहीं केंद्रीय मंत्री एस प्रभु ने कहा कि डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) ने 24/7 हेल्पलाइन की सुविधा भी दी है। वहीं बाढ़ को लेकर सभी एयरलाइंस कंपनियों को एक उचित किराया लेने की हिदायत भी दी गई है। अगर कंपनियों द्वारा ऐसा नहीं किया जाता है तो पैसेंजर्स DGCA में संपर्क कर सकते हैं। प्रभु ने कहा, 'बाढ़ के कारण कोच्चि हवाई अड्डा से परिचालन रुकने के बाद हमने तुरंत एक नई व्यवस्था खोजी। हमने तिरुवनंतपुरम और कालीकट से फ्लाइट शुरू करने की व्यवस्था की। वहीं हम एक और हवाई अड्डा शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं। सरकार ने कल चावल डिस्ट्रीब्यूटरों से भी बात की है। उनसे केरल बाढ़ प्रभावितों को चावल भेजने के लिए अनुरोध किया और वह तैयार हो गए हैं। हम चाहते हैं कि किसी भी इंडस्ट्री या ट्रेड से जुड़े लोग मदद के लिए आगे आ सकते हैं।'

NDRF ने मंगलवार को बाढ़ पीड़ितों के लिए चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन में 535 लोगों को बचाया है और 24,616 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचया है। वहीं 119 जानवरों को भी बचाया गया है। NDRF मेडिकल टीम ने आलप्पुझा और थ्रीसूर जैसे प्रभावित क्षेत्रों में मेडिकल कैंप भी लगाए हैं। वहीं 104 लोगों को स्वास्थ्य सुविधा प्रदान की गई है।

बता दें कि केरल में बचाव और राहत कार्य में प्रशासन की सहायता के लिए NDRF की 41 टीमें तैनात की गई हैं। मंगलवार को इडुक्की, कोट्टायम और पठानमथिट्टा जिलों में तैनात NDRF टीम ने 122 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है।

खबरें और भी हैं...