• Dainik Bhaskar Hindi
  • National
  • Kerala Pregnant Elephant Killing issue Govt Says This is Not Indian Culture Kerala Promises Strict Action NGO Announce Reward on Killers

दैनिक भास्कर हिंदी: गर्भवती हथिनी की हत्या: सरकार ने कहा- यह भारतीय संस्कृति नहीं, केरल में हत्यारों पर डेढ़ लाख का इनाम

June 4th, 2020

हाईलाइट

  • केरल के मल्लापुरम में हथिनी की हत्या से मचा बवाल
  • मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा- यह भारतीय संस्कृति नहीं
  • हत्यारों की सूचना देने वालों को मिलेगा डेढ़ लाख का इनाम

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पटाखों से भरा अननानास खिलाए जाने के बाद केरल में एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई। बेजुबान जानवर को दी गई ऐसी दर्दनाक मौत को लेकर अब बवाल मच गया है। आम जनता और बॉलीवुड से लेकर सरकार तक इस मामले की निंदा कर रही है। केंद्र सरकार ने गुरुवार को इस घटना पर गंभीरता से ध्यान दिया और कहा कि, किसी जानवर के साथ ऐसी हरकत करना हमारी संस्कृति में नहीं है। इसकी उचित जांच की जाएगी और दोषियों को सजा दी जाएगी। वहीं केरल में दो गैर सरकारी संगठनों ने हत्यारों के ऊपर डेढ़ लाख रुपए का इनाम घोषित कर दिया है। केरल वन विभाग ने भी जांच शुरू कर दी है।

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपनी नाराजगी जताते हुए ट्वीट कर कहा, केंद्र सरकार ने केरल के मल्लापुरम में हथिनी की हत्या के मामले पर बहुत गंभीरता से ध्यान दिया है। हम सही तरीके से जांच करने और अपराधी को पकड़ने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। पटाखे खिलाना और मारना भारतीय संस्कृति नहीं है। मंत्री ने हथिनी की मौत पर रिपोर्ट भी मांग और कहा दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

अपराधियों का पता लगाने वाले को इनाम
वाइल्ड लाइफ एसओएस एनजीओ ने अपराधियों का पता लगाने वाले को एक लाख रुपये देने का ऐलान किया है। हथिनी को पटाखे वाला अनानास खिलाने वाले की सूचना और उसके खिलाफ सबूत देने वाले व्यक्ति को 1 लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा। लोग एलिफैंट हॉटलाइन- 9971699727 या ईमेल info@wildlifesos.org पर इसकी सूचना दे सकते हैं।

ह्यूमन सोसायटी इंटरनैशनल/इंडिया ने 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया
ह्यूमन सोसायटी इंटरनैशनल संस्था ने कहा है, दोषियों के बारे में जानकारी देने वाले शख्स को 50 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा। अगर आप चाहेंगे तो आपका नाम और पहचान भी गुप्त रखेंगे। हम उम्मीद करते हैं, दोषियों को सख्त से सख्त सजा हो, जिससे कोई दोबारा ऐसी हरकत ना करे। जानवरों के खिलाफ अमानवीयता, उनके शोषण और अन्य गलत व्यवहारों के खिलाफ काम करने वाली इस संस्था ने इस घटना के अलावा भी ऐसे अन्य मामलों की जानकारी देने के लिए वॉट्सऐप नंबर (7674922044) जारी किया।

अमानवीय कृत्य का शिकार हुई गर्भवती हथिनी
पूरा मामला केरल के मलप्पुरम जिले का है। यहां 27 मई को एक 15 वर्षीय गर्भवती हथिनी इंसानों के अमानवीय कृत्य का शिकार हो गई। दरअसल एक हथिनी इतनी भूखी थी कि भोजन की तलाश में जंगल के बाहर निकल गांव में भटक गई। तभी कुछ स्थानीय लोगों ने उसके साथ शरारत की और शक्तिशाली पटाखों से भरा अनानास उसे खिला दिया। इसे खाते ही हाथी के मुंह में पटाखा फट गया और वह बुरी तरह जख्मी हो गई। उसकी जीभ और मुंह पर गंभीर चोटें आईं। जिसके बाद वह एक नदी में चली गई और तीन दिनों तक वह दर्द से तड़पती रही और कुछ खा-पी नहीं सकी इसके बाद उसने दम तोड़ दिया। हथिनी मन्नारकड फॉरेस्ट डिविजन के वेल्लियार रिवर में मिली थी। वह एक महीने की गर्भवती थी।

इस अमानवीय घटना को लेकर लोग सोशल मीडिया पर आक्रोश जाहिर कर रहे हैं। साइलेंट वैली नेशनल पार्क के वन्यजीव वार्डन सैमुअल पचुआऊ के अनुसार, अपराधियों ने एक पाइनएप्पल के अंदर पटाखे रखे थे, जिसे जंगली हथिनी ने खाया था। इस क्षेत्र में लोग जंगली जानवरों को दूर रखने के लिए अक्सर ही ऐसा करते हैं। शव परीक्षण में पाया गया कि हथिनी के ऊपरी और निचले जबड़े, दांत और जीभ बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुए थे। मृत्यु का कारण फेफड़ों की जटिलता बताई गई क्योंकि इनमें पानी भरा हुआ था।

इस घटना की सोशल मीडिया पर जमकर निंदा हो रही, जहां मीम्स में मां हथिनी को यह कहते हुए दिखाया जा रहा है कि, यह मानव जाति पर भरोसा करने के लिए उसकी गलती थी, जबकि उसके गर्भ में अजन्मा बच्चा पूछ रहा है, मेरी क्या गलती है, मां?