दैनिक भास्कर हिंदी: मप्र में कुमार मंगलम बिड़ला बनाएंगे 100 हाईटेक गौशालाएं

August 9th, 2019

हाईलाइट

  • बिड़ला उद्योग समूह के कुमार मंगलम बिड़ला ने राज्य में 100 हाईटेक गौशालाएं बनाने पर सहमति जताई है

डिजिटल डेस्क, भोपाल। (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने मुंबई दौरे के दौरान कई बड़े औद्योगिक घरानों से नाता रखने वाले प्रतिनिधियों से मुलाकात की और राज्य में निवेश के संदर्भ में चर्चा की। बिड़ला उद्योग समूह के कुमार मंगलम बिड़ला ने राज्य में 100 हाईटेक गौशालाएं बनाने पर सहमति जताई है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ बुधवार को मुंबई पहुंचे थे। उनकी बुधवार की रात को रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी से मुलाकात हुई। कई प्रमुख विषयों पर चर्चा हुई। गुरुवार को कमलनाथ की कई उद्योगपतियों से वन-टू-वन मुलाकात हुई साथ ही समूहों से भी चर्चा हुई।

राज्य के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी किए गए आधिकारिक बयान में बताया गया है कि गुरुवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ की पहल पर बिड़ला उद्योग समूह के कुमार मंगलम बिड़ला ने मध्यप्रदेश में 100 हाईटेक गौ-शालाओं का निर्माण करने पर अपनी सहमति दे दी है। ये गौ-शालाएं अगले 18 महीनों में बिड़ला समूह की सामाजिक जिम्मेदारी निधि से बनाई जाएगी। कुमार मंगलम बिड़ला ने गुरुवार को मुंबई में मध्यप्रदेश के उद्योग परिदृश्य पर कमलनाथ से चर्चा की। कमलनाथ ने रोजगार निर्माण के लिए नए उद्योगों में निवेश संभावनाओं को रेखांकित किया। सीएम कमलनाथ ने कहा, निवेश और विश्वास परस्पर एक दूसरे पर निर्भर हैं। मध्यप्रदेश विश्वास का वातावरण बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा, निवेश के साथ-साथ रोजगार निर्माण पहली प्राथमिकता है। रोजगार के बिना औद्योगिक विकास मध्यप्रदेश जैसे राज्य के लिए अर्थपूर्ण नहीं है। राज्य में कौशल संपन्न, प्रतिभाशाली और मेहनती युवा शक्ति की कमी नहीं है। उन्हें सिर्फ रोजगार के अवसर चाहिए। उन्होंने कहा, हर क्षेत्र के लिए अलग से निवेश नीति बनाई जाएगी। सभी क्षेत्रों की आवश्यकताएं अलग-अलग होती हैं। एक ही नीति सभी क्षेत्रों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकती। उन्होंने कहा, ड्राई पोर्ट, सैटेलाइट शहर, उच्चस्तरीय कौशल विकास केंद्र, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और पर्यटन जैसे क्षेत्रों में मध्यप्रदेश को तेजी से आगे बढ़ाना है।

मुख्यमंत्री ने महिंद्रा एंड महिंद्रा के प्रबंध संचालक पवन गोयनका से ई-रिक्शा और ई-ऑटो निर्माण की संभावनाओं पर भी चर्चा की। कमलनाथ ने कहा, आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आवास उपलब्ध कराना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता का क्षेत्र है। देश के अन्य राज्यों में इस दिशा में हुए कामों का अध्ययन कर मध्यप्रदेश के लिए एक आदर्श नीति बनाई जाएगी।

गुरुवार को कमलनाथ की शापूर पलोनजी समूह के साइरस मिस्त्री के साथ स्र्माट सिटी के विकास, नए अस्पताल, वित्तीय अधोसंरचना परियाजनाओं, शहरी परियोजनाओं में विदेशी पूंजी निवेश पर चर्चा हुई। कमलनाथ की सीआईआई के प्रतिनिधियों के साथ भी बैठक हुई। इसके साथ ही मुख्यमंत्री की इन्वेस्टमेंट अपॉर्चुनिटीज इन मध्य प्रदेश के इंटरेक्टिव सेशन में प्रमुख उद्योगपतियों के साथ बैठक हुई।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश के नए भवन मध्यलोक का लोकार्पण किया और कहा कि मुंबई में मध्यप्रदेश भवन बनने के बाद प्रदेश से पर्यटन, व्यापार और चिकित्सा सुविधा के लिए आने वाले लोगों को लाभ होगा। साथ ही शासकीय कार्य से आने वालों को भी आवास सुविधा उपलब्ध होगी।