comScore

लद्दाख: चीन की चाल पर वायुसेना की नजर, बॉर्डर के पास फॉरवर्ड एयरबेस पर लड़ाकू विमानों का 'नाइट ऑपरेशन'

लद्दाख: चीन की चाल पर वायुसेना की नजर, बॉर्डर के पास फॉरवर्ड एयरबेस पर लड़ाकू विमानों का 'नाइट ऑपरेशन'

हाईलाइट

  • लद्दाख में चीन की चाल पर भारतीय वायुसेना की निगरानी
  • बॉर्डर के पास IAF के लड़ाकू विमानों का 'नाइट ऑपरेशन'
  • फॉरवर्ड बेस पर अपाचे हेलिकॉप्टर ने रात में भरी उड़ान

डिजिटल डेस्क, लद्दाख। पूर्वी लद्दाख में बॉर्डर को लेकर भारत-चीन के बीच तनाव अब कम होता दिखाई दे रहा है। सोमवार को चीन ने गलवान घाटी के पास से अपने कदम पीछे खींचे। जिस जगह पर दोनों देशों के बीच झड़प हुई थी, अब वहां से चीनी सेना करीब दो किमी तक पीछे चली गई है। दोनों देशों के बीच तय हुआ है कि, सीमा पर तनाव की स्थिति को कम किया जाएगा। इसके बावजूद भी भारत ने सख्ती बरकरार रखी है।

सीमा के पास भारतीय वायुसेना चीन की हर चाल पर पैनी नजर रखे हुए है। इसकी के चलते सोमवार रात को भारत-चीन बॉर्डर के पास वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने नाइट ऑपरेशन किया। यहां देर रात निगरानी करने के लिए वायुसेना के विमान अपाचे, चिनूक और फाइटर जेट MiG-29 ने फॉरवर्ड एयरबेस पर उड़ान भरी। भारतीय वायुसेना बॉर्डर पर लगातार अभ्यास कर रही है और हर स्थिति से निपटने की तैयारी में जुटी है। बता दें कि, IAF के बेड़े में पिछले साल ही आठ अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्टरों ने जगह बनाई थी। अपाचे हेलिकॉप्टर को अमेरिकी कंपनी बोइंग बनाती है।

भारत-चीन सीमा के पास फॉरवर्ड एयर बेस में किए गए ऑपरेशन को लेकर वरिष्ठ लड़ाकू पायलट ग्रुप कैप्टन ए राठी ने कहा, नाइट ऑपरेशन का अपना अलग ही महत्व होता है। एयरफोर्स सीमा पर तैनात जवानों की हर मदद के लिए किसी भी समय पूरे स्पेक्ट्रम का संचालन करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

उत्तराखंड में बॉर्डर पर भी भारतीय वायुसेना की चौकसी दिखी। यहां वायुसेना ने चीन और नेपाल सीमा के पास चॉपर से उड़ान भरकर स्थिति का जायजा लिया। वायुसेना उत्तरकाशी के पास चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी का परीक्षण कर रही है। हेलिकॉप्टर ने सीमा तक उड़ान भरी और हवाई पट्टी पर तीन बार टेक ऑफ और लैंडिंग की।

कमेंट करें
9TSMB