दैनिक भास्कर हिंदी: हैदराबाद में महामारी की वजह से बड़ी संख्या में कैब ड्राइवर बेरोजगार

October 7th, 2020

हाईलाइट

  • हैदराबाद में महामारी की वजह से बड़ी संख्या में कैब ड्राइवर बेरोजगार

हैदराबाद, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी ने सभी क्षेत्रों को प्रभावित किया है, लेकिन कुछ अन्य की तुलना में बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। आजीविका के लिए दिन-प्रतिदिन की कमाई पर निर्भर रहने वाले लोग सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।

महामारी ने बड़ी संख्या में कैब ड्राइवरों को बेरोजगार कर दिया है। लगभग सात महीनों से नाममात्र की कमाई के साथ इस टेक हब में सैकड़ों कैब ड्राइवरों को गुजर-बसर के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।

जैसा कि लगभग सभी सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियां अभी भी वर्क फ्रॉम होम मोड में काम कर रही हैं, इन कंपनियों द्वारा काम पर रखे गए 30,000 कैब यूं ही पड़े हुए हैं, जिससे ड्राइवर बेरोजगार हो गए हैं।

शहर में दर्जनों आईटी कंपनियों द्वारा वाहनों को किराए पर लेना कई ट्रैवल ऑपरेटरों के लिए आय का मुख्य स्रोत और ड्राइवरों के लिए आजीविका का स्रोत था।

यहां तक कि वे कैब ड्राइवर जिनके पास खुद का वाहन हैं, वे भी मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। कोविड के पहले की तुलना में उनकी आय एक तिहाई तक कम हो गई है।

हालांकि, पिछले कुछ महीनों के दौरान दैनिक कोविड मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, लेकिन ड्राइवरों को लगता है कि जमीनी स्तर पर हालात में कुछ खास सुधार नहीं हुआ है।

पर्यटन एक अन्य प्रमुख क्षेत्र था जो ट्रैवल ऑपरेटरों और कैब ड्राइवरों को रेवेन्यू प्रदान करता था। इस क्षेत्र को महामारी के कारण कठिन समय का सामना करना पड़ रहा है।

तीन महीने के लिए, टोटल लॉकडाउन के दौरान और बाद में आंशिक ढील के बाद भी लगभग सभी कैब सड़कों से दूर थे।

जब कैब लौटे तो उन्हें यात्री नहीं मिला। कोविड-19 के डर ने यात्रियों को कैब से दूर रखा।

भले ही पिछले चार महीनों में कई क्षेत्रों से प्रतिबंध हटा दिए गए हैं, लेकिन आर्थिक गतिविधि को कोविड के पहले वाले स्तर पर बहाल होना बाकी है।

कैब ड्राइवरों ने हर दिन 10-15 ट्रिप कीं, यात्रियों को कार्यालयों, हवाईअड्डे, रेलवे स्टेशनों, बसों, बाजारों, पर्यटन स्थलों, अस्पतालों और बाहरी स्थानों पर पहुंचाया।

हैदराबाद में आईटी/आईटीईएस कंपनियों द्वारा काम पर रखे गए 30,000 कैब के अलावा तकरीबन 1.2 लाख कैब हैं।

इंडियन फेडरेशन ऑफ एप बेस्ड ट्रांसपोर्ट वर्कर्स (आईएफएटी) के महासचिव शेख सलाउद्दीन ने आईएएनएस को बताया, लॉकडाउन को तकनीकी रूप से हटा दिया गया है, लेकिन कैब ड्राइवरों के लिए लॉकडाउन अभी भी जारी है।

उन्होंने बताया कि हर दिन 5,000 कैब हैदराबाद एयरपोर्ट के लिए ऑपरेट होते थे, लेकिन वर्तमान में वहां मुश्किल से 200 गाड़ियां हैं।

महामारी फैलने से पहले, लगभग 13,000 वाहन पर्यटन क्षेत्र में काम कर रहे थे, लेकिन इस क्षेत्र को अभी भी खुलना है, जिसके कारण ऑपरेटर और ड्राइवर खाली बैठे हैं।

जैसा कि लोगों ने कोविड-19 के डर से व्यक्तिगत वाहनों को प्राथमिकता देना शुरू कर दिया था, कैब की मांग में और कमी आई।

औसतन, एक ड्राइवर कोविड के प्रकोप से पहले एक दिन में 10-12 राइड करता था, लेकिन अब वह पांच भी नहीं कर पा रहा है।

समान मासिक किस्तों (ईएमआई) का भुगतान करने के लिए मुश्किल से कमी होने के बीच, 13,000 रुपये से लेकर 25,000 रुपये प्रति माह तक की ईएमआई के कारण कई ड्राइवरों ने या तो निजी फाइनेंसरों को अपने वाहन खो दिए हैं या कैब को सरेंडर कर दिया है क्योंकि उनके पास लंबित भुगतान करने के लिए पैसे नहीं है।

ड्राइवरों के संकट को बढ़ाते हुए कुछ ऐप-आधारित टैक्सी ऑपरेटरों ने वाहनों को वापस लेने के लिए ड्राइवरों के साथ लीड कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर दिए।

बदहाली ने कई कैब ड्राइवरों को अपने पेशे से दूसरे पेशे में जाने के लिए मजबूर किया है।

सलाबद्दीन कहते हैं कि कई कैब ड्राइवर गांवों से शहर में रहने के लिए आए थे, लेकिन महामारी और इसके कारण होने वाली परेशानियों ने उन्हें गांवों में वापस जाने के लिए मजबूर कर दिया।

कुछ ड्राइवरों, जिनके पास अपने वाहन थे, वे उन्हें रोडसाइड शॉप में बदलकर मास्क,दस्ताने, सैनिटाइजर, सब्जियां या फल बेच दिए।

एक ड्राइवर जनार्दन ने एक निर्माण स्थल पर एक मजदूर के रूप में काम करना शुरू कर दिया। जब भी उसे कुछ ग्राहक मिलते हैं तो वह ट्रिप करते हैं।

कोंडल रेड्डी ने ट्रैक्टर चालक के रूप में काम करने के लिए मेडक जिले में अपने गांव लौटने के लिए अपनी कार बेच दी।

एक अन्य ड्राइवर सैयद मोइज को भी अपने वाहन को कैब एग्रीगेटर को सौंपना पड़ा। वह अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए ग्रामीण इलाकों में एक ऑटोरिक्शा चालक के रूप में काम करते हैं।

सलाउद्दीन ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान शांत रहने वाले फाइनेंसरों ने लॉकडाउन के मानदंडों में ढील देते ही ईएमआई के भुगतान के लिए ड्राइवरों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया।

सलाउद्दीन ने कहा, ड्राइवरों ने भी अच्छी कमाई नहीं शुरू की थी, लेकिन फाइनेंसरों ने ईएमआई लेना शुरू कर दिया। फिर कर्ज चुकाने की मांग की गई, जो ड्राइवरों ने परिवारों को चलाने के लिए लॉकडाउन अवधि के दौरान लिया था।

वाहनों के रखरखाव की लागत भी बढ़ गई है, क्योंकि वाहनों को लंबे समय तक ऐसे ही रखा गया था।

उन्होंने कहा, अब केवल थोड़ा सुधार हुआ है। वर्तमान में अनलॉक 5 और सिनेमा हॉलों के फिर से खुलने के साथ, हमें आने वाले दिनों में सुधार की कुछ संभावनाएं दिखाई दे सकती हैं।

उनका मानना है कि केवल आईटी फर्मो और अन्य व्यवसायों को फिर से खोलने, बिजनेस ट्रैवलर्स और पर्यटकों की यात्रा और अर्थव्यवस्था के अन्य क्षेत्रों में सामान्य स्थिति हालात को फिर से अनुकूल कर सकती है।

वीएवी/एसजीके