दैनिक भास्कर हिंदी: लश्कर ने दी काशी विश्वनाथ मंदिर को उड़ाने की धमकी, यूपी में अलर्ट जारी

June 6th, 2018

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा एक बार फिर से बड़ी आतंकी घटना को अंजाम देने की फिराक में हैं। संगठन ने उत्तर प्रदेश के कई रेलवे स्टेशनों समेत कृष्ण जन्मभूमि और काशी विश्वनाथ मंदिर को उड़ाने की धमकी दी है। इस धमकी के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने सभी स्टेशनों और स्थानों पर हाई अलर्ट जारी कर दिया है। उत्तर प्रदेश पुलिस के महानिदेशक कार्यालय ने इस मामले को लेकर संबंधित अधिकारियों को एक पत्र जारी किया है। 


कई स्टेशनों को उड़ाने की भी धमकी

लश्कर के एरिया कमांडर अबू शेख ने एक पत्र के जरिए यूपी के सहारनपुर, हापुड़ समेत कई स्टेशनों को उड़ाने की धमकी दी है। इसके साथ ही मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि और बनारस में काशी विश्वनाथ मंदिर को उड़ाने की धमकी भी दी। इस धमकी के बाद पुलिस महानिदेशक के कार्यालय के तरफ से सभी संबंधित अधिकारियों को एक पत्र जारी कर सतर्क रहने के लिए कहा गया है। यूपी पुलिस के एक आला अधिकारी के अनुसार, धमकी भरा लेटर पिछले महीने उत्तर रेलवे को मिला था। 

 

पुलिस चौकसी बढ़ाई गई

यह लेटर लश्कर-ए-तैयबा के एरिया कमांडर मौलाना अबू शेख की तरफ से भेजा गया था। इस पत्र में 6 से 10 जून के बीच धमाके किए जाने की धमकी दी गई थी। जिसके बाद से सहारनपुर, हापुड़ समेत कई रेलवे स्टेशनों पर पुलिस चौकसी बढ़ा दी गई थी। मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि और बनारस में काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा भी पुख्ता कर दी गई है। सभी जगहों पर संदिग्धों की निगरानी की जा रही है। पुलिस इन जगहों पर तलाशी अभियान भी चला रही है। 

 

पहले भी मंदिर को उड़ाने की मिल चुकी है धमकी

बता दें कि मई 2017 में भी विश्वनाथ मंदिर को उड़ाने की धमकी दी गई थी। अलर्ट के बाद मंगलवार देर रात सहारनपुर रेलवे स्टेशन पर संदिग्ध लोगों की धरपकड़ के लिए चेकिंग अभियान भी चलाया गया था। वाराणसी एसएसपी राम कृष्ण भारद्वाज ने कहा कि महत्वपूर्ण स्थानों की निगरानी की जा रही है। लोकल इंटेलिजेंस यूनिट को सूचना संकलन के काम में किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरतने का निर्देश दिया गया है। 

 

हाल ही में 6 जून को आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने जम्मू एवं कश्मीर के बांदीपुरा जिले के हाजिन सैन्य शिविर पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली है। लश्कर के प्रवक्ता अब्दुल्ला गजनवी ने श्रीनगर में एक समाचार एजेंसी को फोन कर हमले के पीछे अपने संगठन का हाथ होने का दावा किया।