दैनिक भास्कर हिंदी: Monsoon Session: सदन में आज भी विपक्ष ने किया हंगामा, लोकसभा-राज्यसभा की कार्यवाही कल सुबह 11.30 बजे तक स्थगित

August 5th, 2021

हाईलाइट

  • विपक्ष के हंगामे की वजह नहीं चल पा रहा है सदन
  • बार-बार स्थगित हो रही है लोकसभा-राज्यसभा की कार्यवाही
  • पेगासस मामले पर सरकार को घेर रहा है विपक्ष

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। संसद का मानसून सत्र 19 जुलाई को शुरू हुआ था। लेकिन विपक्ष के लगातार हंगामे के चलते चल नहीं पा रहा है। संसद के दोनों सदन राज्यसभा व लोकसभा में सरकार और विपक्ष के बीच गतिरोध जारी है। आज (बुधवार) भी सदन की कार्यवाही शुरू होती ही विपक्ष नेताओं ने हंगामा कर दिया। इसके चलते लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कार्यवाही कल सुबह 11:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। वहीं, विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा की कार्यवाही कल सुबह 11.30 बजे तक के लिए स्थगित हो गई। इससे पहले मंगलवार को भी पेगासस जासूसी मामला और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण लोकसभा की कार्यवाही तीन बार के स्थगन के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई।

Updates of Monsoon Session of Parliament
केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन के 'पापड़ी चाट' वाले बयान पर कहा, उन्होंने चाट पापड़ी वाला जो वक्तव्य दिया है वो लोकतंत्र का अपमान है, हम उसकी निंदा करते हैं। इस लोकतंत्र के मंदिर के लिए उन्होंने अपमानजनक वक्तव्य दिया है, हम उसकी निंदा करते हैं। 

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, हम पहले पेगासस पर चर्चा करना चाहते हैं और हम किसानों के मुद्दे, महंगाई, पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों और दूसरे मुद्दों पर भी चर्चा करने के लिए तैयार हैं। सभी विपक्षी पार्टियां इसके लिए सहमत हुई हैं लेकिन दुर्भाग्य से सरकार चर्चा करने के लिए तैयार नहीं है। 

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, चाहे कृषि का विषय हो या कोविड का सभी पर सरकार चर्चा के लिए तैयार है। जो विषय उन्हें( विपक्ष) रखना है रखें। सरकार जवाब देगी। कृषि के मामले में सरकार पूरी तरह पारदर्शी है। हमने कृषि कानून बनाते समय भी लोकसभा और राज्यसभा में 4 घंटे चर्चा की। उनका दृष्टिकोण क्या है और वे किस दृष्टिकोण के आधार पर आगे बढ़ना चाहते हैं इस मामले में उनके अपने मन में स्पष्टता नहीं है। हम सदन में चर्चा के लिए तैयार हैं।

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, कांग्रेस और कुछ अन्य दलों का रवैया संसदीय परंपरा और लोकतांत्रिक मूल्यों को हाईजैक करने की साजिश है। बड़ी संख्या में विपक्ष के साथी संसद सुचारु रूप से चलाना चाहते हैं। कांग्रेस और उसके कुछ अन्य साथियों द्वारा अराजकता की पराकाष्ठा की जा रही है।

हवाई अड्डा आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन विधेयक 2021 पर पर केंद्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, हमारी विचारधारा है कि आम जन-जन तक यात्रा की ये सुविधा पहुंच पाए। यात्रा के लोकतांत्रिकरण के लक्ष्य की पूर्ति करने के लिए यह एक अहम बिल है।  

शिरोमणि अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने कहा, राहुल गांधी जी 14 पार्टियों को बुलाते हैं, अफसोस की बात है कि ट्रेक्टर तो चला लेते हैं परन्तु किसान की बात नहीं पेगासस की बात उठाई जा रही है। ज़रूरी पेगासस भी है परन्तु किसान की ज़िन्दगी से ज़्यादा ज़रूरी तो नहीं है। ये पार्टी बाजी दिखा रहे हैं, किसान के मुद्दे पर हमारे साथ आकर खड़े नहीं होते। हम तो सबके साथ खड़े होने के लिए तैयार हैं। अगर ये बड़ी पार्टियां साथ देती तो सरकार कैसे नहीं झुकती। हक़ीक़त ये है कि ये सियासत खेलते हैं। 

सरकार आज राज्यसभा में 5 विधेयक पेश करेगी। 
1.विधेयक सीमित देयता भागीदारी (संशोधन) विधेयक 2021
2.जमा बीमा और ऋण गारंटी निगम (संशोधन) विधेयक 2021
3.संविधान (अनुसूचित जनजाति) आदेश (संशोधन) विधेयक 2021
4.भारतीय विमानपत्तन आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन) विधेयक 2021
5.सामान्य बीमा व्यवसाय (राष्ट्रीयकरण) संशोधन विधेयक 2021 हैं

  • इसके अलावा तीन विधेयक वित्त मंत्रालय से संबंधित हैं जिन्हें निर्मला सीतारमण पेश करेंगी

 

खबरें और भी हैं...