comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू, पुरी और अहमदाबाद में उमड़ा जनसैलाब

July 14th, 2018 19:45 IST

हाईलाइट

  • अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की 141 वीं रथयात्रा रवाना।
  • मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने झाडू निकालकर रथ को खींच कर रथयात्रा की शुरूआत की।
  • मंगला आरती के लिए अमहादाबाद पहुंचे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह।

डिजिटल डेस्क, अहमदाबाद। उड़ीसा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू हुई। भगवान जगन्नाथ, बलभ्रद और देवी सुभद्रा को गर्भगृह से बाहर लाकर रथ में बनाए गए सिंहासन पर विराजमान किया गया है। भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा नगर भ्रमण के लिए रवाना हो चुकी है। इससे पहले भगवान जगन्नाथ की विशेष पूजा-अर्चना की गई और विशेष श्रृंगार किया गया। आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को पुरी और गुजरात के अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की 141 वीं भव्य रथयात्रा निकाली जा रही है। अहमदाबाद में  मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने सोने की झाडू से रथ के सामने सफाई की उसके बाद रथ को खींच कर यात्रा को रवाना किया। 


लाखों श्रद्धालुओं के बीच बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह रथयात्रा से पहले अहमदाबाद में मंगला आरती में शामिल हुए। ओडिशा के पुरी में भी रथयात्रा शुरू होने का इंतजार है। भगवान जगन्नाथ का विशेष श्रृंगार किया जा रहा है। भगवान जगन्नाथ का रथ पीले और लाल रंग के कपड़ो से बना है, जिसमें 16 पहिए लगे हैं। सुभद्रा जी का रथ काले और लाल रंग के कपड़ो का बना है। जिसमें 12 पहिए लगे है। बलभद्र भगवान का रथ हरे और लाल रंग से सजाया गया है, इसमें 14 पहिए लगाए गए है। अहमदाबाद में रथयात्रा भगवान जगन्नाथ के मुख्य मंदिर से सरसपुर के रणछोड़दास मंदिर तक जाएगी। भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा के रथ यहां करीब दो घंटे रुकेंगे। सरसपुर के रणछोड़दास मंदिर को भगवान जगन्नाथ का ननिहाल कहा जाता है। अहमदाबाद में मंत्रोच्चार के साथ मंगला आरती के पहले भगवान जगन्नाथ का भव्य स्नान और अभिषेक किया गया।  

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो जारी भगवान जगन्नाथ की यात्रा को लेकर सभी देशवासियों को शुभकमानाएं दी 

Related image

मंगला आरती में शामिल हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 

सुरक्षा व्यवस्था की बीच रथयात्रा
अहमदाबाद में रथयात्रा के 15 किमी लम्बे रूट पर पहली बार इजराइली हीलियम बैलून लगाए गए हैं। हाईडेफिनेशन कैमेरों की मदद से यात्रा पर निगरानी रखी जा रही है। अहमदाबाद की रथयात्रा में सुरक्षा के बेहद सख्त इंतजाम हैं। गुजरात पुलिस के 14 हजार से ज्यादा जवान, स्टेट रिजर्व पुलिस की 22 कंपनियां और अर्धसैनिक बलों की 25 कंपनियां तैनात हैं।  भगवान की इस रथयात्रा में करीबन 2500 साधुसंत शामिल है।  इस रथयात्रा की सुरक्षा के लिए 1.5 करोड़ रुपये का बीमा भी लिया गया है। रथयात्रा के दौरान अगर कोई बड़ी जानहानि होती हे तो उसके लिए ये बीमा सुरक्षा रहेगा।

रथयात्रा का इतिहास 
उड़ीसा के पूरी में स्थित जगन्नाथ मंदिर दुनिया में प्रसिद् है। सनातन धर्म में इसे चार धामों में से एक कहा गया। जगन्नाथ पूरी में भगवान विष्णु के अवतार कृष्ण का मंदिर है। यहां हर साल भगवान कृष्ण उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा को रथों में बैठाकर गुंडीचा मंदिर ले जाया जाता है। तीनों रथों को भव्य रूप से सजाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान कृष्ण की बहन सुभद्रा अपने मायके आती है, और अपने भाइयों से नगर भ्रमण करने की इच्छा व्यक्त करती है, तब कृष्ण और बलराम सुभद्रा के साथ रथ में सवार होकर नगर घुमने जाते है, इसके बाद से रथ यात्रा का पर्व शुरू हुआ है। इसके अलावा कहते है, कि गुंडीचा मंदिर में स्थित देवी कृष्ण की मासी है, जो तीनों को अपने घर आने का निमंत्रण देती है। श्रीकृष्ण, बलराम सुभद्रा के साथ अपनी मासी के घर 10 दिन के लिए रहने जाते है। 

Image result for जगन्नाथ यात्रा का आकर्षण

भगवान कृष्ण का रूप है जगन्नाथ
उड़ीसा के पुरी के बाद भगवानविष्णु के अवतार भगवान कृष्ण को ही जगन्नाथ यानी जगत के पालनहार कहा जाता है। गुजरात में भारी तादाद में भगवान कृष्ण के अनुयायी हैं। गुजरात के द्वारका में भगवान कृष्ण की राजधानी की मान्यता है।

Related image

यात्रा में आकर्षण का केन्द्र 
भगवान जगन्नाथ की यात्रा के लिए तीनों रथों को बेहद खूबसूरत ढंग से तैयार किया गया है। रथयात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ के दर्शन करने आने वाले लोगों को 30 हजार किलो भीगे हुए मूंग, 500 किलो जामुन, 300 किलो आम और 400 किलो ककड़ी दी जाएगी। रथयात्रा की शुरुआत में सबसे आगे 18 गजराज, 101 ट्रक, 30 अखाड़े जो कि अलग-अलग करतब दिखाएंगे। 18 भजन मंडली और तीन बैंड बाजे के साथ निकलेगी। रथयात्रा का समापन शाम के वक्त करीबन 7 बजे रथ की मंदिर में वापसी के साथ होगा।

Image result for odisha rath yatra

फ्रांस की राजधानी पेरिस में भगवान जगन्नाथ यात्रा की कुछ तस्वीरें 

कमेंट करें
ykZHe
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।