दैनिक भास्कर हिंदी: मायावती का अखिलेश यादव पर बड़ा निशाना, कहा छुटभैया नेता की महालाचारी नजर आ रही है

July 2nd, 2021

हाईलाइट

  • अखिलेश यादव की रणनीति पर मायावती का निशाना

डिजिटल डेस्क, लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अगले साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। दिग्गज पार्टियां चुनाव की तैयारियों में भी जुट गईं हैं। इसी दौरान आरोप प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा और कहा समाजवादी पार्टी की मजबूरी है महालाचारी है कि उसको छोटे दलों के साथ चुनाव लड़ना पड़ेगा। दरअसल, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को कहा था कि आगामी विधानसभा चुनावों के लिए उनकी पार्टी राज्य में छोटे दलों के साथ गठबंधन करेगी। इस बयान के बाद मायावती ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा है और इस गठबंधन को सपा की महालाचारी बताया। 

मायावती ने ट्वीट के जरिए कहा- समाजवादी पार्टी की घोर स्वार्थी, संकीर्ण और दलित विरोधी सोच है। जिसकी वजह से देश की बड़ी पार्टियों ने किनारा कर लिया है. साथ ही कहा कि सपा की हालत इतनी खराब हो गई है कि खुद अखिलेश यादव ‘छुटभैया’ नेता और दूसरी पार्टियों से निष्कासित नेताओं से फोन पर बात कर सपा पार्टी में शामिल होने के लिए हाथ जोड़ रहे हैं । हालांकि अखिलेश यादव लाख छुटभैया नेताओं और छोटे दलों को साथ में मिला लें बावजूद इसके उत्तर प्रदेश की सत्ता हासिल नहीं होगी। 
मायावती ने एक और ट्वीट में अखिलेश यादव को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि उनको अपने स्थानीय नेताओं पर भरोसा नहीं रहा। जिसकी वजह से छोटे दलों का सहारा ले रहे हैं। आगे मायावती ने कहा कि जगजाहिर है कि सपा की चाल, चरित्र और चेहरा हमेशा ही दलित-विरोधी रहा है और आज भी सपा सुधरना नहीं चाहती है वहीं, अपनी गंदी सोच और विचारधारा के साथ चुनाव लड़ेगी।
इसके पहले अखिलेश यादव ने अपने जन्मदिन पर बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था कि उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है और बदलाव के लिए ही जनता ने बीजेपी को वोट दिया था लेकिन, उन्होंने कुछ नहीं किया इसलिए अब 2022 में सपा की सरकार आ रही है।
 

खबरें और भी हैं...