दैनिक भास्कर हिंदी: देश को मजबूत और स्थायी सरकार की जरूरत, कमजोर गठबंधन की नहीं : अजीत डोभाल

October 25th, 2018

हाईलाइट

  • NSA अजीत डोभाल ने इशारों इशारों में महागठबंधन को बताया देश के लिए खतरनाक
  • अजीत डोभाल ने कहा- देश को अगले 10 सालों तक मजबूत और स्थायी सरकार की जरूरत
  • डोभाल बोले- भारत को बड़े निर्णय लेने हैं, हम अगले कुछ सालों तक सॉफ्ट पावर नहीं हो सकते

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने एक कार्यक्रम के दौरान राजनैतिक बयान दिया है। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से मोदी सरकार की तारीफ और आगामी चुनाव में विपक्षी दलों की महागठबंधन की कोशिशों पर निशाना साधा है। डोभाल ने मोदी सरकार को मजबूत और स्थायी करार दिया है। वहीं इशारों इशारों में विपक्षी महागठबंधन को कमजोर नेतृत्व वाला बताया है। डोभाल ने कहा है, 'भारत को अगले 10 सालों में राष्ट्रीय, राजनैतिक, आर्थिक और रणनीतिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए स्थायी, मजबूत और निर्णायक सरकार की जरूरत है। एक कमजोर गठबंधन सरकार देश के लिए हानिकारक साबित हो सकता है।'

डोभाल ने कहा, 'भारत अगले कुछ सालों तक सॉप्ट पावर नहीं रह सकता क्योंकि देश हित में अभी कई बड़े फैसले लेने होंगे।' डोभाल ने यह भी कहा कि कई बार देशहित में लिए गए बड़े फैसले कुछ समय तक जनता के लिए तकलीफ दे सकते हैं, लेकिन ऐसे फैसले लेना जरूरी भी होता है।

डोभाल ने इस दौरान यह भी कहा कि देश में टेक्नोलॉजी पर भी काम करने की बड़ी जरूरत  है। उन्होंने कहा, 'यदि हम बड़ी शक्ति बनना चाहते हैं तो देश को आर्थिक तौर पर और मजबूत होना होगा। भारत को वैश्विक स्तर पर मजबूत प्रतियोगी की भूमिका में आना होगा, यह सिर्फ तभी संभव है जब हम तकनीकी रूप से आगे बढ़ेंगे।'

डोभाल ने अपनी बात रखने के लिए चीन का उदाहरण भी दिया। उन्होंने कहा, 'चीन की कंपनी अलीबाबा आज एक बहुत बड़ी कंपनी है। इसका एक बड़ा कारण चीन सरकार द्वारा अलीबाबा जैसी कंपनियों को दिया गया सपोर्ट है। हम चाहते हैं कि भारतीय प्राइवेट सेक्टर की कंपनिया भी सरकार को सपोर्ट से खुद को दुनिया की बड़ी कंपनियों के सामने खड़ी कर सके।'