comScore

यूपी में भीषण गर्मी से हुआ धान की खेती का बुरा हाल 


हाईलाइट

  • राज्य के गोरखपुर में हीट वेव्स यानी गर्म हवाओं की वजह से धान की फसल बर्बाद हो गई है।
  • महीनों से चल रही गर्म हवाओं और पानी की कमी की वजह से इलाके के किसान खेतों में बीज बोने में असमर्थ हैं।
  • इलाके के किसान इस बात से चिंतित हैं कि फसल की खेती में देरी के कारण उन्हें भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।
  • हीट वेव्स का बुरा असर न केवल धान की खेती में दिखाई दिया है बल्की हरी सब्जियों की खेती भी इसके कारण बुरी तरह प्रभावित हुई है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में इस साल पड़ी भीषण गर्मी से आम लोगों का जीवन तो बेहाल हुआ ही है और अब प्रदेश के अन्नदाता भी इस गर्मी की वजह से मुसीबत में आ गए हैं। राज्य के गोरखपुर में हीट वेव्स यानी गर्म हवाओं की वजह से धान की फसल बर्बाद हो गई है।महीनों से चल रही गर्म हवाओं और पानी की कमी की वजह से इलाके के किसान खेतों में बीज बोने में असमर्थ हैं। इलाके के किसान इस बात से चिंतित हैं कि फसल की खेती में देरी के कारण उन्हें भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। हीट वेव्स का बुरा असर न केवल धान की खेती में दिखाई दिया है बल्की हरी सब्जियों की खेती भी इसके कारण बुरी तरह प्रभावित हुई है।

Image result for paddy cultivation

साल में दो बार की जाती है धान की खेती

भारत समेत दुनिया के कई देशों में चावल लोगों का मुख्य आहार है। दुनिया भर में सबसे ज्यादा तादाद में धान का उत्पादन भारत में ही होता है। इतना ही नहीं भारत चावल निर्यात करने के मामले में विश्व में चौथा सबसे बड़ा निर्यातक देश है। हमारे देश में चावल का सबसे ज्यादा उत्पादन पश्चिम बंगाल राज्य में होता है। देश के अधिकांश हिस्सों में धान की खेती साल में कम से कम दो बार की जाती है।

Related image

धान की खेती भारत में बहुत अहम होती है

देश में धान की पैदावार के दो मौसम होते हैं। ये रबी और खरीफ दोनों ही तरह की फसलों में शामिल होती है। रबी के मौसम में खेती सिंचाई पर निर्भर होती है। जबकि खरीफ की फसल मानसून पर निर्भर होती है। देश के आंतरिक इलाकों में रहकर खेती करने वाले किसान अब भी फसलों की सिंचाई के लिए बेहतर मौसम और अच्छी बारिश पर निर्भर हैं। ग्रामीण भारत के सामाजिक-सांस्कृतिक जीवन में धान की खेती एक प्रमुख भूमिका निभाती है।

Related image

यहां धान की फसल से जुड़े हैं कई उत्सव  

धान की खेती भारत के ग्रामीण जीवन में बहुत अहम किरदार निभाती है। इसके साथ कई उत्सव और त्योहार जुड़े हुए हैं। धान की बेहतर पैदावार होने के बाद ग्रामीण भारत का नजारा ही कुछ अलग हो जाता है। इससे जुड़े त्योहारों को देश के अलग-अलग राज्यों में अलग अलग तरीकों से मनाया जाता है। केरल में इसे ओणम के रूप में मनाते हैं तो असम में इसे बिहू कहा जाता है। आंध्र प्रदेश में इसे मकर संक्रांति तो तमिलनाडु में थाई पोंगल कहा जाता है। कर्नाटक में भी इसे मकर संक्रांति तो पश्चिम बंगाल में नबन्ना के रूप में मनाया जाता है।

कमेंट करें
fCzvL