दैनिक भास्कर हिंदी: जम्मू-कश्मीर: पाक की फायरिंग में 4 नागरिकों की मौत, सेना ने जवान को दी अंतिम सलामी

May 18th, 2018

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के आरएस पुरा सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से फिर से सीजफायर उल्लंघन किया गया। जिसमें एक जवान शहीद हो गया। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की ओर से पाकिस्तान की इस हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया गया है। इस हमले में चार आम नागरिक भी घायल हुए हैं। रमजान के मौके पर पाकिस्तान की ओर से जारी इस हरकत के बाद अंतराष्‍ट्रीय से सटे 3 किमी तक के दायरे में मौजूद स्कूलों को बंद कर दिया गया है।

 

आरएस पुरा में शहीद हुए जवान सीताराम उपाध्याय को सेना ने अतिंम सलामी दी। शहीद के शव पर माल्यार्पण किया गया।

 

 

पाक की तरफ से की गई फायरिंग में अब तब चार नागरिकों की मौत हो गई है। अरनिया सेक्टर में भी दो नागिरकों की मौत हो गई है।

 

 

शहीद की पत्नी बोली, रमजान के दौरान फायरिंग बंद थी तब भी चली गई पति की जान

 

शहीद जवान सीताराम उपाध्याय की पत्नी ने सवाल पूछा है कि रमजान के दौरान सैन्य ऑपरेशन न चलाने की बात कही गई थी। फिर भी पाक की फायरिंग में उनके पति की मौत हो गई। मुआवजे से क्या होगा, ये मेरे पति को वापस तो नहीं देगा।

 

 

 

पाकिस्तान की ओर से मोर्टार से बीएसएफ पोस्ट और सिविलियन इलाकों पर निशाना साधा जा रहा है। भारतीय सेना भी इसका मुंहतोड़ जवाब दे रही है। अरनिया में लोगों को घरों से बाहर ना निकलने की हिदायत दी गई है। 

 

 

 

इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर के सांबा जिले में गुरुवार (17 मई) को भी अंतर्राष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर पाकिस्तानी रेंजर्स द्वारा गोलीबारी की गई थी। जिसमें सीमा सुरक्षा बल के एक जवान की मौत हो गई थी।पाकिस्तानी रेंजर्स ने बिना उकसावे के सांबा और हीरानगर सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर गोलीबारी की। रेंजर्स ने करीब दर्जनभर बीएसएफ सीमा चौकियों को निशाना बनाया था। सांबा में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी गोलीबारी में बीएसएफ का एक कांस्टेबल शहीद हो गया था। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 19 मई को जम्मू एवं कश्मीर दौरे के ठीक दो दिन पहले पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ है।

 

झारखंड का जवान शहीद

आरएसपुरा फायरिंग में शहीद जवान झारखंड का निवासी था। शहीद जवान का नाम सीताराम उपाध्याय है। बता दें कि फायरिंग में दो जवान घायल हो गए थे। जिनमें से एक का इलाज अभी जारी है। वहीं संदिग्ध आतंकवादियों ने बीती रात डलगेट इलाके में भी एक सुरक्षा चौकी से पुलिस कर्मियों की तीन राइफल छीन ली। अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों ने हमलावरों को पकड़ने के लिए इलाके की घेराबंदी कर दी है, लेकिन फिलहाल कुछ सफलता हाथ नहीं लगी है। पाकिस्तान की ओर से रमजान के पहले दिन ही जम्मू-कश्मीर के सांबा और कठुआ जिलों में बुधवार को रातभर 15 सीमा चौकियों और कुछ रिहायशी इलाकों पर गोलीबारी की गयी और मोर्टार दागे गए। पाकिस्तान का उद्देश्य सीमापार से घुसपैठ करवाने में मदद देना था।