दैनिक भास्कर हिंदी: जाधव परिवार के साथ बदसलूकी पर बोला PAK, 'भारत को जानकारी थी'

December 29th, 2017

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। पाकिस्तान की जेल में जासूसी के आरोप में बंद कुलभूषण जाधव के परिवार के साथ 'बदसलूकी' पर पाकिस्तान ने अब अपनी सफाई दी है। गुरुवार को संसद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की फटकार के बाद पाकिस्तान की तरफ से ये सफाई में बयान आया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा अहमद आसिफ ने बयान जारी कर पाकिस्तान का बचाव किया है और कहा है कि इस मुलाकात से पहले ही भारत को कई बातों के बारे में बता दिया गया था। इसके साथ ही पाकिस्तान ने ये भी कहा है कि सुरक्षा कारणों की वजह से जाधव की मां और पत्नी के साथ ऐसा व्यवहार किया गया। इसके पीछे पाकिस्तान ने तर्क दिया है कि एयरपोर्ट पर भी ईसाईयों के क्रॉस और मुस्लिम महिलाओं के हिजाब उतरवा लिए जाते हैं।


मानवता के आधार पर कराई मुलाकात

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाक के विदेश ख्वाजा आसिफ ने गुरुवार को एक बयान जारी किया है, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान का बचाव किया है। इस बयान में उन्होंने कहा है कि 'कुलभूषण जाधव की उनकी मां और पत्नी से मुलाकात 25 दिसंबर को हुई। इस मुलाकात का मकसद इंसानियत के नाते जाधव को उनके परिवार वालों से मिलवाना था। ये मुलाकात काफी सफल भी हुई। अगर आप इस मुलाकात की तारीफ नहीं कर सकते, तो इसे झुठलाएं भी नहीं।' पाकिस्तान ने कहा है कि 'मुलाकात के बाद जाधव की मां और पत्नी ने पाक का शुक्रिया भी किया, लेकिन इसके 24 घंटे बाद भारत ने पाकिस्तान पर निराधार और अफसोसजनक आरोप लगाए। जिससे माहौल खराब होता है।'



मुलाकात का समय 30 मिनट से बढ़ाकर 40 मिनट किया

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इस बयान में कहा है कि 'इस मुलाकात के लिए पहले 30 मिनट का समय तय किया गया था, लेकिन बाद में उनकी मां और पत्नी के कहने पर इसे 40 मिनट कर दिया गया।' पाकिस्तान ने कहा है कि 'कुलभूषण जाधव की अपनी मां और पत्नी से ये मुलाकात कोई सामान्य मुलाकात नहीं थी। असलियत यही है कि जाधव एक भारतीय जासूस हैं, जो पाकिस्तान में हुई कई मौतों के लिए जिम्मेदार है।'

भारत को पहले से ही सब पता था

इस बयान में पाकिस्तान ने भारत पर ही इल्जाम लगा दिया कि पाक में जाधव परिवार के साथ जो कुछ हुआ, उसकी जानकारी भारत को पहले से ही थी। पाकिस्तान ने कहा है कि 'मुलाकात से पहले सुरक्षा जांच जरूरी थी और दोनों देशों के बीच इस पर पहले ही सहमति बन गई थी। हमने मेहमानों के साथ बेहद सम्मानजनक व्यवहार किया। कपड़े बदलवाने और बिंदी- मंगलसूत्र उतरवाने का फैसला पूरी तरह से सुरक्षा कारणों से लिया गया। मुलाकात के बाद उनका सामान उन्हें लौटा भी दिया गया।' पाक ने आगे कहा कि 'जाधव की मां और पत्नी के जूते सुरक्षा जांच में पास नहीं हुए थे, जिस वजह से उन्हें रख लिया गया। इस बात की जानकारी उस वक्त मेहमानों और भारत के डिप्टी हाई कमिश्नर को भी दी गई थी, लेकिन उन्होंने इस पर उस वक्त कोई आपत्ति नहीं जताई थी।'

Image result for kulbhushan jadhav family

मराठी में बात करने से रोकना, कोई गलत नहीं

पाकिस्तान ने आगे कहा कि 'जाधव की मां और पत्नी को मराठी में बात करने से रोकना कोई गलत बात नहीं है। ये सब भी सुरक्षा कारणों के चलते किया गया। उन्होंने आराम से 40 मिनट अंग्रेजी में बात की, जिसे रिकॉर्ड किया गया। भारत को भी पहले बता दिया गया था कि बातचीत रिकॉर्ड की जाएगी। जाधव की मां और पत्नी को हिंदी या मराठी में एक छोटी सी प्रार्थना करने की भी इजाजत दी गई थी।' ख्वाजा आसिफ ने इस बयान में आगे कहा है कि 'एयरपोर्ट पर भी ईसारईयों से क्रॉस और मुस्लिम महिलाओं से हिजाब उतरवाया जाता है, क्योंकि ये सुरक्षा के लिए जरूरी है। इस बारें में भी पहले से ही बात हो गई थी, लेकिन बाद में इसे धर्म या संस्कृति के अपमान के साथ जोड़ना बेहद अफसोसजनक है।' पाकिस्तान ने ये भी कहा है कि 'जाधव के परिवारों को प्रेस कॉन्फ्रेंस का प्रस्ताव भी दिया गया था।' आसिफ ने आगे कहा कि 'मुलाकात से पहले 24 दिसंबर को भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने भी विदेश मंत्रालय का दौरा किया था।'

Image result for sushma swaraj

सुषमा ने दिया संसद में जवाब

वहीं इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गुरुवार को संसद के दोनों सदनों में कुलभूषण जाधव के परिवार के साथ की गई 'बदसलूकी' पर पाकिस्तान को जवाब दिया। सुषमा स्वराज ने कहा कि 'जाधव की मां और पत्नी के बिंदी और मंगलसूत्र तक उतरवा लिए। सुहागिनों को विधवा की तरह पेश किया गया। उन्हें इस तरह देख, जाधव ने अपनी मां से पूछा कि बाबा तो ठीक है न? इससे ज्यादा बेअदगी की इंतहा नहीं हो सकती।' सुषमा ने आगे कहा था कि 'पाकिस्तान ने जाधव की मां और पत्नी के जूते उतरवा लिए और चप्पल देकर भेजा। पाक का कहना था कि उनके जूतों में रिकॉर्डर, कैमरा या चिप लगी हो सकती है। इन्हीं जूतों को पहनकर वो दोनों दो-दो फ्लाइट पकड़कर इस्लामाबाद पहुंची। फ्लाइट में तो किसी को कुछ नजर नहीं आया, लेकिन पाकिस्तान को नजर आ गया।' उन्होंने कहा कि अगर पाक मीडिया को उनके जूतों में कुछ दिख रहा था, तो उन्होंने सबके सामने ही इस बात को क्यों नहीं उठाया? विदेश मंत्री ने आगे कहा कि 'पाकिस्तान ने जाधव परिवार के मानव अधिकारों का उल्लंघन किया है, इसलिए इसकी जितनी निंदा की जाए, उतनी कम है।' सुषमा स्वराज ने बताया कि भारत के डिप्टी हाई कमिश्नर को इस बारे में नहीं पता था, नहीं तो वो उसी वक्त पाक की इस हरकत का जवाब देते।

कुलभूषण जाधव से मिली है मां और पत्नी

बता दें कि सोमवार को ही पाकिस्तान में बंद कुलभूषण जाधव से उनकी मां और पत्नी ने मुलाकात की। इस मुलाकात में पाकिस्तान का असली चेहरा सामने आ गया। दरअसल, सोमवार को जब कुलभूषण की मां और पत्नी उनसे मिलने पाकिस्तानी उच्चायुक्त पहुंची, तो पहले तो उनसे उनके कपड़े बदलवाकर सलवार-सूट पहनाया गया। यहां तक कि उनकी बिंदी, चूड़ियां, मंगलसूत्र और सैंडिल भी पाकिस्तान ने उतरवा लिए थे। इसके अलावा मुलाकात के नाम पर बीच में शीशे की दीवार बना दी गई। साथ ही कुलभूषण की मां और पत्नी को काफी देर तक मीडिया वालों के सामने खड़ा रखा गया और उनसे बेहूदे सवाल किए गए। गौरतलब है कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान ने पिछली साल गिरफ्तार कर लिया था। पाकिस्तान उन्हें भारत की इंटिलिजेंस एजेंसी 'रॉ' का एजेंट बताती है, जबकि भारत का कहना है कि वो नेवी के रिटायर्ड अफसर हैं।