दैनिक भास्कर हिंदी: Monsoon Session: पेगासस जासूसी मामले पर विपक्ष का हंगामा, राज्यसभा की कार्यवाही गुरुवार सुबह 11 बजे तक स्थगित

July 28th, 2021

हाईलाइट

  • सदन में आज भी विपक्ष का जमकर हंगामा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। संसद के मानसून सत्र का दूसरा सप्ताह चल रहा है। आज (बुधवार) भी सदन की कार्यवाही विपक्ष के हंगामे की वजह से नहीं चल पाई। लोकसभा व राज्यसभा दोनों ही सदन की कार्यवाही कई बार स्थगित करनी पड़ी। विपक्ष दलों ने पेगासस जासूसी मामले को लेकर लोकसभा व राज्यसभा में जमकर हंगामा किया। सत्ता पक्ष का कहना है कि विपक्ष सदन की कार्यवाही का नहीं चलने दे रहा है। वहीं, विपक्ष का कहना है कि सरकार अपने तरीके से सदन को चलाना चाहती है। भारी हंगामे के चलते राज्यसभा की कार्यवाही को गुरूवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

Parliament Monsoon Session

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा, हमारी आवाज़ को संसद में दबाया जा रहा है। हमारा एक सवाल है कि क्या केंद्र सरकार ने पेगासस को खरीदा था कि नहीं? क्या केंद्र सरकार ने उसका इस्तेमाल अपने देश के लोगों के ख़िलाफ़ किया था कि नहीं? हम यह जानना चाहते हैं। 

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, संसद में सरकार विपक्ष के सवालों के उत्तर देने के लिए तैयार है तो कांग्रेस, TMC और अन्य दल संसद में प्रश्न पूछने से क्यों भाग रहे हैं? इनका काम संसद की कार्यवाही में रुकावट पैदा करना है। विपक्ष के काम से लोकतंत्र शर्मसार हो रहा है। ठाकुर ने कहा, संसद में आज पार्टियों ने अपने पश्नों को रखा लेकिन कांग्रेस और TMC सांसदों ने सदन के स्पीकर पर कागज़ फेंके। संसद में मौजूदा अधिकारियों के ऊपर भी वे चढ़े। यह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को शर्मसार करने की घटना है।

'पेगासस प्रोजेक्ट' रिपोर्ट पर चर्चा की मांग को लेकर विपक्षी सांसदों के हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित हुई।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने विपक्षी पार्टियों द्वारा सदन में पेगासस मामले पर चर्चा की मांग पर कहा, विपक्ष ने सदन में चर्चा के लिए तीन विषय(कोविड, किसानों का आंदोलन, बढ़ती महंगाई) तय किए थे। पहले इन तीन विषयों को पूरा होने दीजिए।

राज्यसभा की बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज पटल पर रखवाए। इसके बाद उन्होंने जैसे ही शून्यकाल के तहत मुद्दा उठाने के लिए माकपा की झरनादास वैद्य का नाम पुकारा, विपक्षी सदस्यों ने विभिन्न मुद्दों पर हंगामा शुरू कर दिया। सभापति ने सदस्यों से सदन में तख्तियां और पोस्टर नहीं दिखाने के लिए कहा और शून्यकाल चलने देने की अपील की। सदन में व्यवस्था बनते नहीं देख उन्होंने बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी। मौजूदा मानसून सत्र में अब तक राज्यसभा में शून्यकाल नहीं हो पाया है।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

खबरें और भी हैं...