दैनिक भास्कर हिंदी: क्या राहुल गांधी को सर्जिकल स्ट्राइक में साथ लेकर जाते? : मनोहर पर्रिकर

July 17th, 2018

हाईलाइट

  • सर्जिकल स्ट्राइक की सत्यतता पर सवाल उठाने पर मनोहर पर्रिकर ने साधा विपक्ष पर निशाना।
  • पर्रिकर ने कहा कि क्या मुझे आर्मी को कहना चाहिए था कि राहुल गांधी को साथ ले जाकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दें?
  • सर्जिकल स्ट्राइक की सबसे महत्वपूर्ण बात उसकी गोपनीयता थी।

डिजिटल डेस्क, पणजी। पाकिस्तान के खिलाफ भारत की सर्जिकल स्ट्राइक की सत्यता पर सवाल उठाने पर तत्‍कालीन रक्षा मंत्री और वर्तमान में गोवा के मुख्‍यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने विपक्ष को आड़े हाथों लिया है। पर्रिकर ने विपक्ष पर तंज करते हुए कहा है कि क्या मुझे आर्मी को यह कहना चाहिए था कि राहुल गांधी को साथ ले जाकर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दें? गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान मनोहर पर्रिकर ने ये बात कही।

क्या मुझे विपक्ष को साथ लेकर जाना चाहिए था?
मनोहर पर्रिकर ने कहा, विपक्षी दल क्या दावा करते हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक नहीं की गई। इनकी नकारात्मकता को देखिए। क्या मुझे विपक्ष को साथ लेकर जाना चाहिए था? क्या मुझे सेना से कहना चाहिए था कि राहुल गांधी को साथ ले जाइए और सर्जिकल स्ट्राइक कीजिए?

 



कौन-कौन जानते थे सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में?
पर्रिकर ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक की सबसे महत्वपूर्ण बात उसकी गोपनीयता थी। केवल पीएम मोदी, मैं, आर्मी चीफ और सैन्‍य ऑपरेशन के महानिदेशक इसके बारे में जानते थे। हम चार लोगों के अलावा जो इस बारे में जानते थे वो कोर कमांडर, श्रीनगर में आर्मी कमांडर और वो थे जिन लोगों ने इसे अंजाम दिया था।