दैनिक भास्कर हिंदी: Coronavirus: 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनें सस्पेंड, कोरोनावायरसस के बढ़ते प्रकोप के चलते सरकार ने उठाया कदम

March 22nd, 2020

हाईलाइट

  • 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनें सस्पेंड रहेंगी
  • कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते रेल मंत्रालय ने उठाया कदम
  • देश में कोरोनावायरस के 300 से ज्यादा मामले

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर भारतीय रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनें सस्पेंड कर दी हैं। हालांकि, जिन ट्रेनों ने अपनी यात्रा शुरू कर दी है, उन्हें अपने गंतव्य तक पहुंचने की अनुमति होगी। माल गाड़ी पर किसी तरह की रोक नहीं लगाई है। रेल मंत्रालय की ओर से रविवार को यह जानकारी दी गई।

क्या कहा रेल मंत्रालय ने?
रेल मंत्रालय ने कहा कि कोरोनावायरसस के चलते एतियाती कदम उठाते हुए इंडियन रेलवे और कोंकण रेलवे की सभी यात्री ट्रेनों के सस्पेंशन को 31 मार्च 2020 को रात 12 बजे तक बढ़ा दिया है। मंत्रालय ने कहा कि सबअर्बन ट्रेन और मेट्रो रेलवे कोलकाता की ट्रेनें बेहद कम स्तर पर 22 मार्च रात 12 बजे तक चलती रहेंगी। इसके बाद ये ट्रेनें भी 31 मार्च तक सस्पेंड हो जाएंगी।

ऑनबोर्ड खानपान सेवाएं निलंबित
इससे पहले, लोगों को गैर-जरूरी यात्रा से रोकने के लिए आईआरसीटीसी ने बड़ा कदम उठाया था। आईआरसीटीसी ने पूरे भारत में अनिश्चित काल के लिए फूड प्लाजा, रिफ्रेशमेंट रूम, रसोई और अन्य स्टेटिक यूनिट्स को बंद करने का फैसला लिया था।

टिकट कैंसलेशन पर 100% रिफंड
रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि 'रद्द ट्रेनों में टिकट रखने वाले सभी यात्रियों को इसके बारे में व्यक्तिगत रूप से सूचित किया जा रहा है। इन ट्रेनों के लिए कोई कैंसलेशन फी नहीं ली जाएगी। यात्रियों को 100 फीसदी रिफंड मिलेगा। 

इंटरनेशनल कमर्शियल पैसेंजर फ्लाइट की लैंडिंग पर प्रतिबंध
सरकार ने 22 मार्च से एक सप्ताह के लिए सभी इंटरनेशनल कमर्शियल पैसेंजर फ्लाइट की लैंडिंग पर भी प्रतिबंध लगाते हुए, लॉकडाउन को और कड़ा कर दिया है।

कोरोनावायस से भारत में 6 मौत
बता दें कि भारत में रविवार दोपहर 12 बजे तक कुल 348 मरीजों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। इनमें से 28 को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है, जबकि 314 मरीज अब भी अस्पताल में भर्ती हैं। 6 लोगों की इस वायरस के चलते मौत हो चुकी है।

जनता कर्फ्यू
आज पूरे देश में जनता कर्फयू का पालन किया जा रहा है। कोरोनावायसस के बढ़ते प्रकोप के चलते पीएम मोदी ने कहा था, 'मेरा सभी देशवासियों से ये आग्रह है कि आने वाले कुछ सप्ताह तक जब बहुत जरूरी हो तभी अपने घर से बाहर निकलें। जितना संभव हो सके, आप अपना काम, चाहे बिजनेस से जुड़ा हो, ऑफिस से जुड़ा हो, अपने घर से ही करें।

उन्होंने कहा, मैं आज प्रत्येक देशवासी से एक और समर्थन मांग रहा हूं। ये है जनता-कर्फ्यू। जनता कर्फ्यू यानि जनता के लिए जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। इस रविवार, यानि 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता-कर्फ्यू का पालन करना है।