दैनिक भास्कर हिंदी: पीएम का ममता पर पलटवार- आपका थप्पड़ भी मेरे लिए आशीर्वाद

May 9th, 2019

हाईलाइट

  • उत्तर प्रदेश और प.बंगाल के चुनावी दौरे पर पीएम मोदी
  • बंगाल में पीएम का ममता पर वार- अहंकार दीदी को ले डूबेगा

डिजिटल डेस्क, लखनऊ/कोलकाता। लोकसभा चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (9 मई) ताबड़तोड़ चुनावी रैलियां कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने सपा-बसपा और कांग्रेस पर हमला बोला। पीएम ने कहा, जो लोग केंद्र में एक खिचड़ी सरकार चाहते हैं, महामिलावट वाली सरकार चाहते हैं, उनसे सावधान रहना बहुत आवश्यक है। महामिलावटी सरकार का मतलब देश में अराजकता और अस्थिरता। इन लोगों द्वारा फैलाई अस्थिरता देश ने 20 वर्ष पहले भी देखी थी। जब देश में संयुक्त मोर्चा नाम की सरकार थी, जिसका परिणाम यह हुआ कि देश को बार बार चुनाव का सामना करना पड़ा।

पीएम ने कहा, वोट बैंक और जातीय समीकरण की राजनीति करने वालों ने, इन महामिलावट वालों ने देश को खतरे में डाल दिया था। इन्हीं लोगों ने पाकिस्तान को भारत पर हावी होने का मौका दिया। कांग्रेस, सपा और बसपा ने जात-पात के आधार पर आपसे वोट मांगे, लेकिन कभी आपके स्वास्थ्य की चिंता नहीं की।

बंगाल के पुरुलिया में पीएम
इससे पहले पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला। पीएम ने कहा, पहला धक्का 23 मई को लगेगा और फिर दीदी की दमनकारी सत्ता का पतन शुरु हो जाएगा। 23 मई के बाद भारत का संविधान सभी का हिसाब करेगा, देश का लोकतंत्र सभी का हिसाब चुकता करेगा

ममता के थप्पड़ मारने वाले बयान पर पलटवार करते हुए पीएम ने कहा, दीदी ने कहा है कि वो मोदी को थप्पड़ मारना चाहती हैं। ममता दीदी मैं तो आपको दीदी कहता हूं, आपका आदर करता हूं। आपका थप्पड़ भी मेरे लिए आशीर्वाद बन जाएगा, वो भी खा लूंगा।

पीएम मोदी ने बंगाल के बांकुरा में भी जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम ममता बनर्जी पर तीखा प्रहार किया। यहां उन्होंने जनसभा में मौजूद लोगों से 'चुपचाप कमल छाप' के नारे भी लगवाए।पीएम मोदी ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, दीदी कितनी परेशान है, उसका अंदाज़ा उनकी भाषा से लगाया जा सकता है। वो अब मेरे लिए पत्थरों की बात करती हैं, थप्पड़ों की बात करती हैं। मुझे तो गालियों की आदत है लेकिन बौखलाहट में दीदी देश के संविधान का भी अपमान कर रही हैं।

पीएम ने कहा, ममता दीदी ने पहले बंगाल को अपनी सत्ता के नशे में बर्बाद किया। अब वो बंगाल को और तबाह करने पर तुल गयी हैं अपनी सत्ता जाने के डर से। उन्हें मां-माटी-मानुष की नहीं, सिर्फ अपने हितों, अपनी कुर्सी, अपने रिश्तेदारों, अपने भतीजे और अपने टोलाबाजों की परवाह है। दीदी अपने देश के प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री मानने के लिए तैयार नहीं हैं, लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को, प्रधानमंत्री मानने में उन्हें गौरव का अनुभव होता है।

बंगाल के बांकुरा में पीएम का ममता पर वार...

  • जब पश्चिम बंगाल में समुद्री तूफान आया, तो मैंने दीदी को दो-दो बार फोन किया, लेकिन उनका अहंकार इतना है कि उन्होंने देश के प्रधानमंत्री से बात करना उचित नहीं समझा। यहां तक की भारत सरकार यहां के अफसरों के साथ बैठक करके राज्य की मदद करना चाहती थी लेकिन दीदी ने उस मीटिंग को भी  करने से भी इनकार कर दिया।
  • आज स्थिति ये है कि यहां की मुख्यमंत्री तो दीदी हैं, लेकिन वो पीछे रहकर कैसे कैसों की दादागिरी और हुकूमत चलवा रही है। नाम का शासन तो TMC रखा है लेकिन कारोबार दीदी के ‘जगाई-मथाई’ चला रहे हैं।
  • दीदी के दिल में घुसपैठियों के लिए और विदेशी कलाकारों के लिए ममता है, लेकिन हमारे आदिवासी युवा, हमारे सपूत जो राष्ट्र रक्षा में अपनी भूमिका निभा रहे हैं, उनके लिए कोई ममता नहीं है।