दैनिक भास्कर हिंदी: जम्मू कश्मीर दौरे पर पीएम मोदी, जोजिला सुरंग का किया शिलान्यास

May 19th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू कश्मीर दौरे पर हैं। शनिवार को लेह पहुंचने पर पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया गया। पीएम मोदी यहां 19वें लद्दाखी आध्यात्मिक गुरु कुशाक बाकुला की 100वीं जयंती समारोह में शामिल हुए। इसके बाद पीएम मोदी ने जम्मू-कश्मीर में जोजिला सुरंग का शिलान्यास किया। बता दें इस सुरंग का निर्माण 6800 करोड़ रुपए की लागत से होगा जो कि लद्दाख को श्रीनगर से जोड़ेगी। जोजिला एशिया की सबसे लंबी दो-तरफा यातायात वाली होगी सुरंग होगी।
 

 

 

 

 

 

 


लेह में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा पूरे जम्मू-कश्मीर में कृषि विकास के लिए अपार संभावनाएं हैं। वहीं संपूर्ण स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी कश्मीर एक अहम भूमिका निभा सकता है।

 

 

 

 

पीएम ने ये भी कहा कि जम्मू-कश्मीर को 25 हजार करोड़ की विकास परियोजनाएं मिलने वाली हैं। इन परियोजनाओं का राज्य के लोगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

 

 

 

 

 

इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी अन्य कई परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे। पीएम के दौरे के मद्देनजर राज्य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने हाई अलर्ट जारी किया है, वहीं कार्यक्रम स्थलों के आसपास तीन स्तरीय सुरक्षा के इंतजाम किये गए हैं। 

 

 

 

 

 

पीएम के दौरे को लेकर सुरक्षा 

सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। श्रीनगर में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने श्रीनगर और जम्मू के सभी प्रवेश और निकास मार्गों को सील कर दिया है। पीएम की यात्रा से पहले श्रीनगर और जम्मू में आने वाले वाहनों की तलाशी ली जा रही है।

 

 

इसके अलावा श्रीनगर में कई स्थानों पर नाकेबंदी कर मोबाइल बंकरों को तैनात किया गया है। प्रदेश के दोनों जिलों में बनाए गए कार्यक्रम स्थलों के आसपास तीन-स्तरीय सुरक्षा के इंतजाम हैं। एसपीजी की दो टीमों ने जम्मू कश्मीर में डेरा डाल लिया है। इस टीम ने राज्य के आईजी के साथ बैठक कर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा भी लिया। 

 
 

 

 

इन परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी-

 

  • पीएम मोदी पनबिजली परियोजना का उद्घाटन करेंगे।
     
  • 1000 मेगावॉट की पाकल दुल एचइ परियोजना की आधारशिला रखेंगे।
     
  • वैष्णो देवी मंदिर में सियार दाबरी से भवन तक रोप-वे का उद्घाटन करेंगे। 
     
  • वैष्णोदेवी मंदिर के लिए वैकल्पिक लिंक रोड तारकोट मार्ग का उद्घाटन करेंगे।
     
  • जम्मू विश्वविद्यालय में जनरल जोरावर सिंह ऑडिटोरियम से जम्मू रिंग रोड की आधारशिला रखेंगे। 
     
  • पीएम मोदी शेर-ए-कश्मीर कृषि विज्ञान प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के छठवें दीक्षांत समारोह में शामिल होंगे। 

 

 

किशनगंगा प्रोजेक्ट का उद्घाटन 

पीएम मोदी जम्मू-कश्मीर राज्य के तीनों हिस्सों का दौरा करेंगे। शनिवार को पीएम कश्मीर घाटी के बांदीपोरा जिले में 330 मेगावॉट किशनगंगा जलविद्युत परियोजना का उद्घाटन कर दिया है। 

 

 

दीक्षांत समारोह में होंगे शामिल  

पीएम मोदू जम्मू जिले का भी दौरा करेंगे। यहां वो शेर-ए-कश्मीर कृषि विज्ञान प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (SKUAST ) के दीक्षांत समारोह में शिरकत करेंगे। 

 

रिंग रोड का शिलान्यास

पीएम मोदी श्रीनगर में शहर के अंदर ट्रैफिक को कंट्रोल करने के लिए 42.1 किलोमीटर लंबी फोर लेन रिंग रोड का शिलान्यास करेंगे। ये पश्चिमी श्रीनगर के गलंदर से संभल को जोड़ेगी। इस परियोजना की लागत करीब 1860 करोड़ रुपये है। इसके बनने से श्रीनगर से करगिल और लेह के बीच नया वैकल्पिक मार्ग मिल जाएगा और यात्रियों वक्त भी कम लगेगा।

 

जम्मू की रिंगरोड 58.25 किमी लंबी होगी। ये पश्चिमी जम्मू में जगती को रायामोड़ से जोड़ेगी। इसकी लागत 2023 करोड़ रुपये होगी। जानकारी के अनुसार इस रिंग रोड में 8 बड़े ब्रिज, 6 फ्लाइओवर, दो टनल और 4 डक्ट का निर्माण किया जाएगा।

 

जोजिला सुरंग परियोजना का शिलान्यास 

पीएम मोदी श्रीनगर को लेह-लद्दाख से जोड़ने वाली एशिया की सबसे लंबी टू-लेन जोजिला सुरंग परियोजना का शिलान्यास कर दिया है। सेना के लिए ये सुरंग काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। 14.2 किलोमीटर लंबी इस सुरंग की लागत करीब 6809 करोड़ रुपये है। परियोजना को पूरा करने के लिए 7 साल का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस सुरंग के बनने से श्रीनगर, कारगिल और लेह के बीच सभी मौसम में संपर्क बना रहेगा। वहीं जोजिला से गुजरने में लगने वाला समय 3.5 घंटे से घटकर सिर्फ 15 मिनट रह जाएगा। बता दें कि सर्दियों के सीजन में बर्फबारी और लैंडस्लाइड के कारण श्रीनगर और लेह-लद्दाख के बीच की कनेक्टिविटी ज्यादातर बाधित रहती है।

 

 

जानिए जोजिला सुरंग क्यों हैं बेहद खास
 
जोजिला सुरंग के लिए पहली बार 1997 में भारतीय सेना ने सर्वे किया था। 1999 में करगिल युद्ध के बाद इस योजना को अमलीजामा पहनाने की तैयारी हुई। 
जेएड-मोड़ सुरंग और जोजिला सुरंग 20 किमी लंबी होगी। जिससे रास्ता आसान हो सकेगा। 


जोजिला सुरंग एशिया की सबसे लंबी टू-वे टनल होगी। सुरंग हाईवे के नीचे 400 मीटर दूरी तक गुजरेगी। ये सुरंग को सेना के लिए बेहद महत्वपूर्ण होगी। अब हर मौसम में सीमा चौकियों तक सामग्री पहुंचाना आसान होगा।  


इस टनल से तीन घंटे का सफर सिर्फ 15 मिनट में पूरा किया जा सकेगा। सुरंग में 80 किमी प्रति घंटे की स्पीड से वाहन गुजर सकेंगे। 


हाई-टेक कॉम्युनिकेशन सहित इसमें सभी जरूरी सेफ्टी फीचर्स उपलब्ध होंगे। 


श्रीनगर-करगिल-लेह हाईवे पर 11 हजार 578 फुट की ऊंचाई पर स्थित जोजिला दर्रे में बन रही इस सुरंग से लद्दाख हर मौसम में कश्मीर घाटी से जुड़ा रहेगा। 


सुरंग के बनने से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के बीच भौगोलिक - सांस्कृतिक एकता मजबूत होगी।  


टनल के बन जाने पर लद्दाख में रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। पर्यटकों की संख्या भी बढ़ेगी। 


इस प्रोजेक्ट पर सड़क परिवहन, राजमार्ग मंत्रालय और नेशनल हाईवेज एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड काम करेंगे। 

 

गौरतलब है कि जम्‍मू कश्‍मीर में रमजान के दौरान केंद्र सरकार की ओर से सीजफायर को मंजूरी मिलने के बाद पहली बार पीएम मोदी राज्य के दौर पर हैं। केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर सरकार की अपील पर घोषणा की थी कि रमजान के महीने में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन नहीं चलाया जाएगा। इस फैसले की आलोचना भी की जा रही है क्योंकि इस फैसले के बाद भी आतंकी गतिविधियां कम नहीं हुई हैं।