दैनिक भास्कर हिंदी: अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी का भारत दौरा, पीएम मोदी से की मुलाकात

September 19th, 2018

हाईलाइट

  • अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मो. अशरफ गनी एक दिन के दौरे पर भारत पहुंचे हैं।
  • बुधवार को गनी ने हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की।
  • इस दौरान गनी और मोदी ने भारत और अफगानिस्तान के बीच सहयोग को मजबूत करने को लेकर बात की।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मो. अशरफ गनी एक दिन के दौरे पर भारत पहुंचे हैं। बुधवार को गनी ने हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की। इस दौरान गनी और मोदी ने भारत और अफगानिस्तान के बीच द्विपक्षीय सहयोग को और मजबूत करने और क्षेत्रीय सुरक्षा को बढ़ाने संबंधित बातचीत की। इसके साथ ही इन दो देशों ने अफगानिस्तान के चबाहार बंदरगाह और एयर फ्रेट कॉरिडोर कनेक्टिविटी को मजबूत करने को लेकर भी बातचीत की।

राष्ट्रपति गनी ने कहा कि भारत और अफगानिस्तान के बीच एक चीज कॉमन है और वह है लोकतंत्र। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक संबंध ही इन दो देशों के रिश्तों को मजबूत बनाते हैं। उन्होंने कहा, 'मैं भारतीय राजनयिक संस्थानों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मैं यहां हूं क्योंकि मैं अफगानिस्तान का निर्वाचित नेता हूं जो कि इस वक्त दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में बोल रहा है। मैं यहां सिर्फ बोलने नहीं आया हूं, बल्कि दो लोकतांत्रिक देशों के बीच संबंध बढ़ाने आया हूं।'

गनी ने कहा, 'अफगानिस्तान को हिंसा, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद और आपराधिक नेटवर्क से दूर रखने की जरूरत है। हिंसा और आतंकवाद से किसी की भलाई नहीं होती, बल्कि यह विनाश और तबाही फैलाते हैं। हमें समझने की जरूरत है कि अफगानिस्तान में शांति खतरे में है। हमें यह समझना चाहिए कि अफगानिस्तान में फिर से खुशहाली लाने के लिए क्या करने की जरूरत है। हम भारत से शांति और सुलह को लेकर ही बातचीत करने आए हैं। मैंने भारतीय प्रधानमंत्री से आतंकवाद का मिलकर सामना करने को लेकर भी बात की।'

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अफगानिस्तान में आतंकवादी हमलों और हिंसा की स्पष्ट रूप से निंदा की। पीएम मोदी ने कहा कि भारत अफगानिस्तान को आतंकवाद से लड़ने में हर संभव मदद प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान को एक शांतिपूर्ण, समावेशी और लोकतांत्रिक राष्ट्र के रूप में बनाए रखने में भारत अपना समर्थन देगा। इस दौरान पीएम ने 7 लापता भारतीयों को लेकर चिंता भी जताई। इस पर गनी ने आश्वासन देते हुए कहा कि वह व्यक्तिगत तौर पर इस मामले की जांच कर रहे हैं।

बता दें कि पिछले हफ्ते काबुल के दौरे पर गए भारत के विदेश सचिव ने अशरफ गनी को भारत आने का निमंत्रण दिया था। इस निमंत्रण को स्वीकारते हुए गनी भारत दौरे पर आए थे। ऐसा कहा जा रहा है कि इंडिया फाउंडेशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद वे स्वदेश रवाना हो जाएंगे। 

खबरें और भी हैं...