comScore

Rajasthan Government Crisis: पायलट को मानने में जुटा आलाकमान, BJP ने रखी फ्लोर टेस्ट की मांग

Rajasthan Government Crisis: पायलट को मानने में जुटा आलाकमान, BJP ने रखी फ्लोर टेस्ट की मांग

हाईलाइट

  • जयपुर में बैठक के बाद होटल पहुंचे कांग्रेस विधायक
  • सचिन पायलट को मना रहे राहुल-प्रियंका सहित कांग्रेस के पांच नेता
  • भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान में फ्लोर टेस्ट की मांग की

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजस्थान में उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की बगावत से गहलोत सरकार पर छाए संकट के बाद फिलहाल छंटते नजर आ रहे हैं। जयपुर में विधायक दल की बैठक के बाद गेहलोत खेमे ने दावा किया है कि उनके पास 109 विधायक हैं। यानी गेहलोत सरकार के पास बहुमत के आंकड़े (101) के अलावा 8 और विधायकों को समर्थन है। जयपुर में विधायक दल की बैठक के बाद अब सभी विधायक बस में सवार होकर रिजॉर्ट के लिए निकले हैं, इनके साथ में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी हैं। हांलांकि सचिन पायलट का कहना है कि उनके पास 25-30 विधायकों का समर्थन है। वहीं अब प्रियंका गांधी ने भी इस संकट को खत्म करने के लिए मार्चो संभाल लिया है। प्रियंका के अलावा राहुल गांधी समेत कुल 5 बड़े नेताओं ने पायलट से बात कर उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच खबर आ रही है कि भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान में फ्लोर टेस्ट की मांग की है।

राजस्थान विधानसभा में सीटों का समीकरण: कुल सीटें- 200

 राजनीतिक दल  विधायकों की संख्या    
कांग्रेस 107
भाजपा72
निर्दलीय13
आरएलपी3
बीटीपी2
लेफ्ट2
आरएलडी1

राजस्थान में कांग्रेस के पास 107 विधायकों का समर्थन है। 13 निर्दलीय और एक राष्ट्रीय लोकदल के विधायक का भी समर्थन है। गहलोत सरकार के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन है। भाजपा के पास 72 विधायक हैं। सत्ता में वापसी के लिए भाजपा को बहुमत जुटाने के लिए 29 विधायक चाहिए।

पायलट ने मानेसर में रणनीति बनाते अपने विधायकों का वीडियो जारी किया
राजस्थान के बागी उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने सोमवार को पहला वीडियो जारी किया, जिसमें कांग्रेस विधायक और उनके खेमे के अन्य विधायक हरियाणा के मानेसर स्थित एक रिसॉर्ट में रणनीति बना रहे हैं। विधायक एकसाथ बैठे और भविष्य पर चर्चा करते हुए दिखाई दे रहे हैं, जबकि दूसरी ओर ठीक इसी समय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खेमे के विधायक मंगलवार सुबह 10 बजे प्रस्तावित कांग्रेस की बैठक के लिए फेयरमोंट होटल में अपनी रणनीति पर चर्चा कर रहे थे। कांग्रेस नेताओं ने पायलट और विधायकों से एक भावुक अपील की है कि वे सभी मतभेदों को दरकिनार कर बैठक में हिस्सा लें। इस बीच, पायलट खेमे द्वारा दावा की गई संख्या को लेकर सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि वीडियो में उनके द्वारा कही गई विधायकों की संख्या नहीं दिख रही है।

राजस्थान: होटल में ठहराए गए विधायक
जयपुर के फेयरमोंट होटल में राज्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, रघु शर्मा, गोविंद सिंह डोटासरा के साथ विधायक संयम लोढ़ा और अमीन कागजी आदि मौजूद रहे। इन सभी ने सोमवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ हुई बैठक में हिस्सा लिया था।

कल सुबह 10 बजे फिर होगी विधायक दल की बैठक, सचिन पायलट को दिया न्यौता
मौजूदा सियासी स्थिति पर चर्चा करने के लिए कल सुबह 10 बजे फिर कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी। हमने सचिन पायलट सहित सभी विधायकों से आने को कहा है। हम उन्हें लिखित में भी सूचना देंगे। हमने उन्हें यहां आकर स्थिति पर चर्चा करने को कहा है: सुरजेवाला 

गहलोत के पास 84 विधायक, बाकी समर्थन मेरे साथ: सचिन पायलट
डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा है कि उन्होंने कोई भी समझौते की शर्त नहीं रखी है, और किसी आलाकमान से उनकी बातचीत नहीं चल रही है। पायलट गुट का कहना है कि अशोक गहलोत के पास कांग्रेस के मात्र 84 विधायक हैं बाकी हमारे साथ हैं। सचिन पायलट गुट का यह दावा ऐसे समय सामने आया है जब सोमवार दोपहर में अशोक गहलोत ने 100 से अधिक विधायकों की परेड करायी। सीएम अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन हासिल है। इनमें से 104 जयपुर में मौजूद हैं, जबकि 5 विधायकों ने समर्थन पत्र सौंपा है। वहीं सचिन पायलट के सपोर्ट में उन्हें मिलाकर कुल 17 विधायक हैं।

जयपुर एक होटल में कांग्रेस विधायक

मंत्री रमेश मीणा ने कहा- मैं सचिन के साथ
राजस्थान के कैबिनेट मंत्री रमेश मीणा ने समाचार एजेंसी ANI को बताया है कि मैं सचिन पायलट के साथ हूं।  

आलाकमान से बातचीत नहीं चल रहीः पायलट
इस बीच सचिन पायलट का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि हमने कोई भी समझौते की शर्त नहीं रखी है और किसी आलाकमान से उनकी बातचीत नहीं चल रही है। पायलट गुट का कहना है कि अशोक गहलोत के पास कांग्रेस के मात्र 84 विधायक हैं, बाकी हमारे साथ हैं। राजस्थान सरकार अल्पमत में है।

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं थे 20 MLA
न्यूज एजेंसी एएनआई ने दावा किया है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में 20 विधायक शामिल नहीं थे।
 

भारतीय जनता पार्टी ने की फ्लोर टेस्ट की मांग
भारतीय जनता पार्टी के अमित मालवीय ने कहा कि इस स्थिति में अशोक गहलोत को तुरंत फ्लोर टेस्ट के लिए बुलाना चाहिए। उन्हें बहुमत साबित करना चाहिए, ड्रामे से राजस्थान को बचाना होगा। शासन के काम को आगे बढ़ाना होगा, लेकिन अगर वह अपने विधायकों को रिसॉर्ट में भेज रहे हैं, तो स्पष्ट रूप से उनके पास संख्या नहीं है।

होटल पहुंचे कांग्रेस विधायक

पायलट से बोला पार्टी आलाकमान- लौट आएं, बात करें
राजस्थान में अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन हासिल है, जिनमें 104 मौजूद हैं और पांच से समर्थन पत्र सौंपा है। वहीं सचिन पायलट के सपोर्ट में सिर्फ 17 विधायक हैं। फिलहाल पार्टी आलाकमान ने सचिन पायलट से कहा है कि वे लौट आएं। पार्टी ने सचिन पायलट को मैसेज भेजा है कि हमारा आप पर स्नेह है। हम आपका सम्मान करते हैं। हम खुले दिल से आपका स्वागत करने के लिए तैयार हैं। प्लीज आएं और बात करें।

विधायक दल में प्रस्ताव पारित, कहा-कांग्रेस पार्टी एकजुट
राजस्थान के विधायक दल में प्रस्ताव पारित किया गया है। प्रस्ताव में कहा गया है कि कोई भी कांग्रेस का पदाधिकारी और कांग्रेस का नेता या विधायक सरकार के खिलाफ षडयंत्र में पाया जाता है तो उसके खिलाफ कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। कांग्रेस विधायक दल ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी में पूरी आस्था व्यक्त करते हुए अपना नेता सर्वसम्मति से अशोक गहलोत को माना है। कांग्रेस विधायक दल में प्रस्ताव पारित हुआ है कि बीजेपी के षडयंत्रकारी मंसूबों को पूरा नहीं होने दिया जाएगा। कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से एकजुट है।

5 नेताओं ने की सचिन पायलट से बात
कांग्रेस के पांच बड़े नेताओं ने सचिन पायलट से बात की है। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, केसी वेणुगोपाल, पी. चिदंबरम और अहमद पटेल ने सचिन पायलट से बात की है। बताया जा रहा है कि सचिन पायलट से जयपुर जाने के लिए कहा गया है। वहीं, दूसरी तरफ जानकारी ये भी आ रही है कि सचिन पायलट अब बारगेनिंग के मूड में हैं। उन्होंने अपने समर्थक मंत्रियों को गृह और वित्त विभाग जैसे महत्वपूर्ण पोर्टफोलियो देने की मांग की है। साथ ही प्रदेश अध्यक्ष का पद अपने पास रखने की शर्त भी जाहिर की है।

प्रियंका गांधी ने संभाला मोर्चा
राजस्थान कांग्रेस का झगड़ा खत्म करने के लिए अब प्रियंका गांधी ने मोर्चा संभाल लिया है। बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों नेताओं से बात कर रही हैं। दोनों नेताओं से बात कर तमाम विवाद खत्म करने की कोशिश की जा रही है।

सचिन पायलट के पोस्टर फिर लगे
जयपुर में कांग्रेस दफ्तर से सोमवार सुबह उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के पोस्टर हटा दिए गए थे, जो अब फिर से लगा दिए गए हैं। अशोक गहलोत ने बहुमत की संख्या दिखा दी है। मीडिया के सामने उन्होंने समर्थक विधायकों को दिखाया है। इसके बाद कांग्रेस दफ्तर पर सचिन पायलट के पोस्टर फिर से लगा दिए गए हैं।

कमेंट करें
7or2H