दैनिक भास्कर हिंदी: RIP: प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का अमेरिका में निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

August 17th, 2020

हाईलाइट

  • पंडित जसराज का 90 साल की उम्र में हुआ निधन
  • अमेरिका के न्यूजर्सी स्थित घर पर ली अंतिम सांस

डिजिटल डेस्क, वॉशिंगटन। मेवाती घराने के प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का अमेरिका में निधन हो गया है। पद्म विभूषण से सम्मानित पंडित जसराज 90 साल के थे। उन्होंने अमेरिका के न्यू जर्सी में अंतिम सांस ली। पंडित जसराज की बेटी दुर्गा जसराज ने निधन की पुष्टि की है। पंडित जसराज के निधन से संगीत जगत शोक में डूब गया है। दुर्गा जसराज ने कहा, ''बड़े दुख के साथ हमें यह सूचित करना पड़ रहा है कि संगीत मार्तंड पंडित जसराज ने अमेरिका के न्यू जर्सी में सुबह 5:15 बजे अंतिम सांसें लीं।''

पंडित जसराज का जन्म 28 जनवरी 1930 को हुआ था। उनके पिताजी पंडित मोतीराम मेवाती घराने के संगीतज्ञ थे। इस कारण से पंडित जसराज को संगीत की शिक्षा विरासत में मिली थी। उनका जन्म ऐसे परिवार में हुआ था, जिसकी 4 पीढ़ियां संगीत से जुड़ी रहीं। चार साल की उम्र में ही पंडित जसराज के सर से पिता का साया उठ गया था। उनके पालन-पोषण का दायित्व बड़े भाई पंडित मणिराम की देख-रेख में हुआ। 

पंडित जसराज के निधन के बाद उनकी अंत्येष्टि कहां होगी, इसे लेकर भी अटकलें लगाई जाने लगी हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्र सरकार पंडित जसराज का शव भारत लाए जाने के लिए बात कर रही हैं। उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, अखिलेश यादव समेत कई नेताओं ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है।

पीएम मोदी ने जताया दुख
पंडित जसराज के निधन पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर दुख जताया है। उन्होंने फोटो शेयर करते हुए लिखा, ''पंडित जसराज जी के निधन से भारतीय सांस्कृतिक क्षेत्र में एक खालीपन आ गया है। न केवल उनकी प्रस्तुतियां उत्कृष्ट थीं, उन्होंने कई अन्य गायकों के लिए एक असाधारण गुरु के रूप में भी अपनी पहचान बनाई। दुनिया भर में मौजूद उनके प्रशंसकों और परिवार के प्रति संवेदना। ओम् शांति''

Image

28 जनवरी 1930 को जन्मे पंडित जसराज ने भारतीय शास्त्रीय संगीत को नई ऊंचाई दी। पंडित जसराज ने भारतीय शास्त्रीय संगीत को विश्व फलक पर महत्वपूर्ण स्थान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। संगीत जगत में अपने जीवन के 80 साल से अधिक समय तक सक्रिय रहे पंडित जसराज ने भारत के साथ ही अमेरिका और कनाडा में भी शास्त्रीय संगीत का परचम लहराया। 

इन्होंने भी दी श्रद्धांजली
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह
ने कहा कि सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज के निधन से मुझे गहरा दुःख हुआ है। मेवाती घराना से जुड़े पंडितजी का सम्पूर्ण जीवन सुर साधना में बीता। सुरों के संसार को उन्होंने अपनी कला से नए शिखर दिए। उनके जाने से संगीत का बड़ा स्वर मौन हो गया है। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें।

लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने ट्वीट कर दुख जताया है। उन्होंने कहा, ''मूर्धन्य गायक, मेवाती घराने के गौरव पद्मविभूषण पंडित जसराज जी नही रहे। आज अमरीका में उन्होंने अंतिम सांस ली। संगीत जगत की अपूरणीय क्षति!विनम्र श्रद्धांजलि! ॐ शांति।''

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने ट्वीट कर कहा, ''आपकी मधुर आवाज़ लाखों श्रोताओं की जीवन रेखा थी ! आपका जाना संगीत की दुनिया में एक बड़ा शून्य बना गया ! सुर सम्राट नहीं रहे !! आप बहुत याद आयेंगे पंडित जसराज !! ईश्वर आपको अपने श्री चरणों में स्थान दें!''

बीजेपी नेता शहनवाज हुसैन ने कहा कि शास्त्रीय संगीत के पुरोधा, प्रसिद्ध गायक पण्डित जसराज के निधन की खबर दुखद है. मैं उनको श्रद्धांजलि देता हूं। उनका जाना संगीत के लिए बहुत बड़ी क्षति है।

 

खबरें और भी हैं...