comScore

संजय राउत बोले- राहुल गांधी को सावरकर का सही इतिहास बताए कांग्रेस नेता 

संजय राउत बोले- राहुल गांधी को सावरकर का सही इतिहास बताए कांग्रेस नेता 

हाईलाइट

  • सावरकर को लेकर कांग्रेस और शिवसेना में तनातनी उजागर
  • रेप इन इंडिया वाले बयान के बाद भाजपा के निशाने पर राहुल गांधी

डिजिटल डेस्क, मुंबई। सावरकर पर दिए बयान के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने राहुल गांधी और कांग्रेस को सलाह दी है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को सावरकर के बारे में गलत जानकारी है। महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता राहुल गांधी को सावरकर का सही इतिहास बताएं। सावरकर को लेकर कांग्रेस और शिवसेना में तनातनी के बीच संजय राउत ने ये भी साफ किया कि गठबंधन की यह सरकार महाराष्ट्र में पूरे 5 साल चलने वाली है। शिवसेना ने सावरकर को भारत रत्न दिए जाने की मांग फिर से दोहराई।

राहुल गांधी के रेप इन इंडिया वाले बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार को राहुल गांधी से माफी की मांग की। वहीं राहुल गांधी ने कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में सावरकर का नाम लेकर कह दिया कि मैं सावरकर नहीं राहुल गांधी हूं। स​ही बात कहने के लिए मैं माफी नहीं मांगूंगा। इस पर भाजपा नेताओं की ओर से राहुल गांधी पर एक बाद एक बयान आना शुरू हो गए। वहीं माफी मांगने की बात पर राहुल गांधी द्वारा सावरकर का नाम लेना शिवसेना के नेताओं को नागवार गुजरा। उद्धव ठाकरे ने इस बयान पर कांग्रेस हाई कमान से चर्चा करने की बात कही है तो वहीं इस पूरे मामले पर शिवसेना नेता संजय राउत ने अपनी प्रतिक्रिया दी।

संजय राउत ने कहा है कि देश में कुछ लोग सरदार पटेल, जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गांधी के ऊपर अलग-अलग राय रखते हैं, पर उनके योगदान को नकार नहीं सकते। ऐसे ही राहुल गांधी के सावरकर के ऊपर दिए बयान से उनका योगदान नकारा नहीं जा सकता।

महाराष्ट्र में कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी गठबंधन की सरकार बनने के बाद माना जा रहा था कि शिवसेना उग्र हिंदुत्व से कंप्रोमाइज करेगी पर सावरकर के ताजा विवाद में शिवसेना ने साफ किया है कि सावरकर शिवसेना के हीरो थे और हीरो रहेंगे। महाराष्ट्र में सावरकर की भूमिका न बदली है न बदलेगी। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि सावरकर महाराष्ट्र के साथ-साथ देश के लिए प्रेरणादाई हैं।

कमेंट करें
qIbt7
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।