दैनिक भास्कर हिंदी: शशि थरूर को लड़के ने किया प्रपोज, मिला शानदार जवाब

September 25th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस के सीनियर लीडर और तिरुवनंतपुरम के सांसद शशि थरूर को एक लड़के ने शादी के लिए प्रपोज किया है। शशि थरूर को वैसे भी कई बार शादी के ऑफर्स मिले हैं, लेकिन किसी मेल पर्सन ने पहली बार इस कांग्रेस नेता को शादी के लिए प्रपोज किया है। LGBT कम्युनिटी के एक लड़के ने थरूर को शादी का प्रस्ताव भेजा। इस प्रस्ताव पर शशि थरूर ने भी बहुत ही शानदार जवाब दिया है, जिसकी लोगों ने तारीफ की है।

जानकारी के अनुसार देश की राजधानी दिल्ली में 12 नवंबर को LGBTQI (लेसबियन, गे, बायसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर, क्वीर और इंटरसेक्स) कम्युनिटी ने प्राइड परेड निकाली। इसमें एलजीबीटीक्यूआई कम्युनिटी के अलावा आम लोग भी शामिल हुए। लड़के ने बड़ा सा पोस्टर बनवाकर थरूर को शादी के लिए प्रपोज किया है। वह लड़का परेड में एक चार्ट लेकर घूम रहा था, जिस पर लिखा था- 'Shashi Tharoor, Marry Me' (शशि थरूर मुझसे शादी कर लीजिए)। इस लड़के की फोटो ट्विटर पर शेयर की गई।

सीनियर कांग्रेस नेता को यह बात मीडिया के द्वारा पता चली। इसके बाद उन्होंने सोशल मीडिया ट्विटर पर उस लड़के को शानदार जवाब दिया। ट्वीट पर थरूर ने लिखा- 'हा-हा! अगर वे सिर्फ तिरुवनंतपुरम में वोट देने के लिए रजिस्टर्ड होते, तो यह और भी बेहतर होता।' इसके बाद कई यूजर्स ने उनके ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए शशि थरूर की तारीफ ही की है। एक यूजर्स ने तो थरूर को अगला पीएम उम्मीदवार तक बनने की सलाह दी है।

बता दें कि परेड के अगले दिन 13 नवंबर को सूर्य एचके नाम के टि्वटर हैंडल से कार्यक्रम के दिन वाला फोटो डाला गया था। इस पोस्ट में परेड के दौरान वही चार्ट लिए खड़ा था। इधर, इंस्टाग्राम पर तरुण बोरा नाम के यूजर ने लिखा कि वह अकेला नहीं था। और भी वैसे लोग थे, जो थरूर से शादी करना चाहते थे। एक दूसरे यूजर्स ने लिखा- 'शशि थरूर आपका रिप्लाई बहुत ही प्यारा है। हमें पॉलिटिक्स में ऐसे ही सकारात्मक लोगों की जरूरत है।

एक यूजर्स ने तो शशि थरूर से देश का अगला पीएम उम्मीदवार बनने की गुजारिश कर दी. उस यूजर्स ने लिखा- 'हमें पढ़े-लिखे राजनीतिज्ञों की जरूरत है। आप अगला पीएम उम्मीदवार बनिए. हम आपके लिए वोट करेंगे।'

थरूर ने की थी धारा 377 में संसोधन की मांग
गौरतलब है कि कांग्रेस नेता शशि थरूर ने एक प्राइवेट मेंबर बिल के जरिए धारा 377 में संसोधन की मांग की थी। उन्होंने समलैंगिकता को लेकर इस कानून में संसोधन की मांग की, लेकिन बाद में आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी ने अपने बहुमत का इस्तेमाल कर इसे पास नहीं होने दिया।