• Dainik Bhaskar Hindi
  • National
  • Suicide : Former Manipur-Nagaland Governor and former CBI Chief Ashwini Kumar found swinging at his house in Shimla

दैनिक भास्कर हिंदी: Suicide : मणिपुर-नागालैंड के पूर्व राज्यपाल और पूर्व CBI चीफ अश्विनी कुमार शिमला में अपने घर पर फंदे पर झूलते मिले, डिप्रेशन से जूझ रहे थे

October 8th, 2020

हाईलाइट

  • शिमला स्थित अपने घर पर की खुदकुशी
  • अगस्त 2008 में बने थे सीबीआई निदेशक
  • हिमाचल प्रदेश पुलिस के डीजीपी भी रहे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूर्व राज्यपाल, केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के पूर्व निदेशक और हिमाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (DGP) रहे अश्विनी कुमार ने बुधवार को खुदकुशी कर ली है। उन्होंने शिमला स्थित अपने घर में फंदे पर लटककर अपनी जान दे दी। शिमला के एसपी मोहित चावला ने इस घटना की पुष्टि की और कहा कि यह चौंकाने वाला मामला है। चावला ने कहा कि पुलिस अफसरों के लिए अश्विनी कुमार रोल मॉडल थे। शिमला स्थित ब्राक हास्ट स्थित आवास में अश्विनी कुमार का शव लटका पाया गया। पुलिस को घटनास्थल से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। इसमें लिखा गया है कि जिंदगी से तंग आकर अगली यात्रा पर निकल रहा हूं। वे 70 साल के थे। सूत्रों के अनुसार वह पिछले कुछ समय से डिप्रेशन में चल रहे थे।

इस मामले में शिमला के पुलिस अधीक्षक मोहित चावला का कहना है कि अभी नागालैंड के पूर्व राज्यपाल के आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस को मोक से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। पुलिस इस मामले में गम्भीरता से छानबीन कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इस मामले कुछ कहा जा सकता है।

CBI चीफ रहते फर्जी एनकाउंटर मामले में अमित शाह को किया था गिरफ्तार
भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अफसर अश्विनी कुमार मणिपुर और नागालैंड राज्य के राज्यपाल भी रहे थे। इससे पहले अश्विनी अगस्त 2006 से जुलाई 2008 तक पुलिस महानिदेशक थे। अश्विनी कुमार अगस्त 2008 से नवंबर 2010 तक CBI के निदेशक भी रहे थे। उस दौरान अमित शाह को शोहराबुद्दीन शेख के फर्जी एनकाउंटर मामले में गिरफ्तार किया गया था। अश्विनी कुमार मार्च 2013 से जून 2014 तक नागालैंड के गवर्नर थे। 2013 में थोड़े समय के लिए मणिपुर के गवर्नर भी रहे। 

खूफिया एजेंसियों के लिए भी काम किया
1985 में शिमला के एसपी रहते हुए अश्विनी कुमार को स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) में अप्वाइंट किया गया। 1985 से 1990 तक उन्होंने एसपीजी में कई पदों पर काम किया। वे पीएमओ में असिस्टेंट डायरेक्टर भी रह चुके थे। उन्होंने भारतीय खुफिया एजेंसियों के लिए भी काम किया था।

मैनेजमेंट में पीएचडी की थी
अश्विनी कुमार का जन्म 15 नवंबर 1950 को हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के नाहन में हुआ था। उन्होंने किन्नौर जिले के कोठी गांव के पास सरकारी प्राइमरी स्कूल में अपनी शुरुआती पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कॉलेज देहरादून और बिलासपुर के सरकारी कॉलेज से पढ़ाई की। उनका ग्रेजुएशन हिमाचल प्रदेश के नाहन स्थित सरकारी कॉलेज से हुआ। उन्होंने हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से मैनेजमेंट में पीएचडी की थी।