दैनिक भास्कर हिंदी: सुनंदा पुष्कर हत्या मामला : 21 फरवरी से सेशन कोर्ट करेगा केस की सुनवाई

February 5th, 2019

हाईलाइट

  • 21 फरवरी को सेशन कोर्ट में होगी सुनंदा पुष्कर हत्या मामले की सुनवाई।
  • संदेहास्पद हालातों में हुई थी मौत।
  • पति शशि थरूर को पटियाला हाई कोर्ट ने माना था दोषी।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चार साल पुराने बहुचर्चित सुनंदा पुष्कर हत्या मामले की सुनवाई 21 फरवरी को सेशन कोर्ट में होने जा रही है। इससे पहले इस हाईप्रोफाइल केस की सुनवाई एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट में चल रही थी। बता दें कि पटियाला हाउस कोर्ट ने कांग्रेस नेता शशि थरूर को मामले में आरोपी माना है। शशि थरूर पर पत्नी सुनंदा को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है, लेकिन उनकी अब तक गिरफ्तारी नहीं हुई है।

क्या था मामला
पूर्व केंद्रिय मंत्री शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के एक लग्जरी होटल में संदेहास्पद हालातों में मृत पाई गईं थी। सुनंदा पुष्कर का पोस्ट मोर्टम करने वाले डॉक्टर का कहना था कि उनकी मौत प्राकृतिक नहीं है। अपनी रिपोर्ट में डॉक्टर्स ने साफ किया था कि सुनंदा के शरीर पर एक दर्जन से अधिक चोट के निशान थे। गौरतलब है कि मौत से एक दिन पहले यानि 16 जनवरी को सुनंदा पुष्कर और पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार का ट्विटर पर जमकर झगड़ा हुआ था।

मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने सुनंदा की मौत का कारण जहर बताया था। जांच टीम के अनुसार सुनंदा के शरीर में एल्प्राजोलम और एक्सेड्रीन नामक दो दवा पाई गईं थी। एम्स में डॉक्टर टीम के प्रमुख सुधीर गुप्ता ने यह आरोप लगाया था कि उन पर पोस्टमार्टम रिपोर्ट को बदलने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था। डॉक्टर गुप्ता द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार सुनंदा पुष्कर के शरीर पर 15 से अधिक चोट, इंजेक्शन और दांत से काटने के निशान थे।

भारतीय जनता पार्टी ने लगाए थे आरोप
सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि मामले की जांच में बेवजह ही देरी हो रही है और यह न्यायिक व्यवस्था पर धब्बा है। हालांकि कोर्ट ने स्वामी की याचिका को खारिज कर दिया था, जिसके बाद स्वामी ने मामले की SIT जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था।

 

खबरें और भी हैं...