दैनिक भास्कर हिंदी: चीन में बोलीं सुषमा स्वराज, 'सभी देश आतंक के खिलाफ अपनाएं जीरो टॉलरेंस नीति' 

February 27th, 2019

हाईलाइट

  • चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मिलीं सुषमा स्वराज। 
  • चीन में उठाया पुलवामा आतंकी हमले का मामला।
  • सुषमा स्वराज ने कहा- सभी देश आतंक के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाएं। 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को चीनी विदेश मंत्री वांग यी से चीन में मुलाकात की और जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले का मुद्दा उठाया। विदेश मंत्री ने कहा, मैं ऐसे वक्त में चीन आई हूं जब भारत में शोक और गुस्से का माहौल है। उन्होंने कहा, पुलवामा में जवानों पर भीषण हमला हुआ। यह हमला पाकिस्तान में संचालित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने किया। इस हमले में हमने अपने 40 जवान खो दिए। ऐसे में पूरी दुनिया को आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाना चाहिए और इसके लिए कड़े कदम उठाना चाहिए।

 

 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज रूस, भारत और चीन (RIC) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए चीन के वुझेन पहुंची हैं। चीन पहुंचने के बाद सुषमा स्वराज चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मिलीं और पुलवामा हमले का मुद्दा उठाया। सुषमा स्वराज ने कहा, पुलवामा हमले में जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है जो कि पाकिस्तान की धरती से संचालित हो रहा है। चीन पाकिस्तान का करीबी दोस्त रहा है। अब वक्त आ गया है कि सभी देश आतंक के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए आतंक के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करें।

 

 

सुषमा स्वराज ने चीन और रूस के विदेश मंत्रियों को पीओके के बालाकोट में एयर स्ट्राइक के बारे में भी बताया। सुषमा स्वराज ने कहा अब आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक जंग का वक्त आ गया है। इंटरनेशनल कम्युनिटी को जैश-ए-मोहम्मद और पाकिस्तान में मौजूद अन्य आतंकी संगठनों पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा, पाकिस्तान लगातार आतंकी संगठनों को पनाह देने की बात से इनकार करता रहा है। इसी बीच हमें खबर मिली कि जैश ए मोहम्मद भारत में और आतंकी हमले करने की फिराक में है। जिसके बाद भारत सरकार ने उसके खिलाफ कार्रवाई की लेकिन हमने किसी मिलिट्री कैंप को टार्गेट नहीं किया। हमारा मकसद जैश के आतंकी ठिकाने पर कार्रवाई करना था।

 


गौरतलब है कि 14 फरवरी को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमला किया था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। वहीं मंगलवार तड़के (26 फरवरी) भारत ने पाकिस्तान के भीतर एयर स्ट्राइक कर कई बड़े आतंकी शिविरों को तबाह किया।