दैनिक भास्कर हिंदी: मप्र: 12 दिन की बच्ची को ठंड से बचाने जलाई सिगड़ी, दम घुटने से 4 की मौत

January 23rd, 2019

हाईलाइट

  • 110 वर्गफीट के कमरे में मिली लाशें
  • मंडीदीप के हिमांशु कॉलोनी में हुई घटना
  • परिवार का मुखिया अस्पताल में भर्ती

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से तकरीबन 25 किलोमीटर मंडीदीप में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। रायसेन जिले के मंडीदीप नगर में एक ही परिवार के 4 लोगों की लाश 110 वर्ग फीट के कमरे में मिली, जबकि परिवार का मुखिया बेसुध हालत में मिला है, जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पुलिस को आशंका है कि सिगड़ी के धुएं से दम घुटने के कारण 4 मौतें हुई हैं। मरने वालों में 12 दिन की नवजात बच्ची भी शामिल है। पुलिस को कमरे से एक सिगड़ी मिली है, जिससे धुआं निकल रहा था, इसलिए पुलिस दम घुटने के एंगल से भी मौत की जांच कर रही है। घटना मंडीदीप की हिमांशु कॉलोनी में मंगलावार रात घटित हुई है।

 

इसलिए दम घुटने की आशंका
पुलिस को कमरे में एक सिगड़ी मिली, जिसमें से धुआं निकल रहा था। पुलिस मानकर चल रही है कि परिवार ने 12 दिन पहले जन्मी नवजात बच्ची को ठंड से बचाने के लिए सिगड़ी जलाई होगी, जिसमें कोयला जलने के कारण कमरे में कार्बन मोनो ऑक्साइड गैस भर गई, इस कारण ही सबका दम घुट गया। असल वजह जानने के लिए पुलिस अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

 

घर के मुखिया की चल रही थी सांसें
घटना के वक्त कमरे में 25 वर्षीय सन्नू भूरिया, उसकी 20 वर्षीय पत्नी पूर्णिमा, 12 दिन की बेटी, 11 वर्षीय साला आकाश और सास दीपलता मौजूद थे, जिनमें से सन्नू को छोड़कर सभी की मौत हो गई है। सन्नू अस्पताल में भर्ती है, जहां उसकी हालत गंभीर है। पुलिस जब घर पर पहुंची तो सन्नू की सांसें चल रही थीं। एएससपी एपी सिंह ने बताया कि सन्नू की जांच में जहर की पुष्टि नहीं हुई है। बाकि शवों का पीएम करवाया जा रहा है। 

 

साथ काम करने वाले की बहन से की थी शादी
पुलिस के मुताबिक सन्नू भूरिया मूलत: दंतेवाड़ा छत्तीसगढ़ का रहने वाला था और मंडीदीप की एक सोया ऑयल कंपनी में ऑपरेटर था। 2014 को भोपाल आने के बाद वह किराए का मकान लेकर रह रहा है। उसकी सैलरी 11 हजार रुपए थी। उसे अपने साथ काम करने वाले एक साथी की बहन से लव मैरिज की थी। सन्नू के पड़ोसी नितिन चौहान को मंगलवार शाम 7.30 बजे उसके मकान से गिड़गिड़ाने की आवाज आई। उन्होंने पुलिस सूचना दी, जब पुलिस अंदर पहुंची तो 5 लोग अचेत अवस्था में पड़े थे।

 

12 दिन पहले गूंजी थी किलकारी
सन्नू की पत्नी पूर्णिमा ने 12 दिन पहले ही एक बच्ची को जन्म दिया था। पूर्णमा की देखरेख करने उसकी दीपलता मां अपने 11 वर्षीय बेटे आकाश के साथ डेढ़ महीने पहले गोदियां से मंडीदीप आई थी।