comScore

पाकिस्तान में आतंकी खतरों व हमलों ने फिर सिर उठाया

July 24th, 2020 16:01 IST
 पाकिस्तान में आतंकी खतरों व हमलों ने फिर सिर उठाया

हाईलाइट

  • पाकिस्तान में आतंकी खतरों व हमलों ने फिर सिर उठाया

इस्लामाबाद, 24 जुलाई (आईएएनएस)। पाकिस्तान की स्थिरता, विकास, प्रगति के लिए और इसके साथ आतंकवाद के नाश के लिए चल रहा आतंकवाद विरोधी संघर्ष, ऐसा लगता है कि कभी न खत्म होने वाला संघर्ष बन कर रह गया है।

कई लोगों का मानना है कि आतंकवाद के प्रसार के खिलाफ कार्रवाई और अपनी जमीन का इस्तेमाल किसी भी समूह को आतंकवादी गतिविधियों के लिए नहीं करने देने की पाकिस्तान की कार्रवाई देर से सामने आई। इस देरी की वजह से पूरे पाकिस्तान में आतंकी स्लीपर सेल का जाल फैल गया जो रह-रह कर सक्रिय होते हैं, देश में आतंकी हमले की वजह बनते हैं जिनमें निर्दोषों की जान जाती है या फिर ऐसे गंभीर खतरे पैदा करते हैं जिनकी वजह से सुरक्षा बलों को अपनी पूरी ऊर्जा लगानी पड़ती है।

सबसे हालिया हमले में देश के आर्थिक केंद्र कराची में पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज को निशाना बनाया गया। भारी हथियारों से लैस चार आतंकवादियों ने इमारत में घुसने की कोशिश की। सुरक्षा बलों ने उन्हें मार कर हमले को समाप्त किया लेकिन इसमें चार सुरक्षा अधिकारी भी मारे गए। इसने आतंकवादी समूहों के स्लीपर सेल की उपस्थिति का सवाल उठाया जो अभी भी प्रमुख शहरों में महत्वपूर्ण और संवेदनशील प्रतिष्ठानों को लक्षित करने की बड़ी योजनाओं के साथ सक्रिय हैं।

इस हमले की जिम्मेदारी बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) ने ली थी। आतंकी हमलों का खतरा बना हुआ है जिसकी वजह से सुरक्षा बलों को चौबीसों घंटों रेड अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है।

गुरुवार को कानून प्रवर्तन कर्मियों ने कराची में सुरक्षा उपायों को बढ़ाया और विभिन्न क्षेत्रों को सील कर दिया, विशेषकर उन क्षेत्रों को जहां विदेशी राजनयिक मिशन स्थित हैं।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि शहर के रेड जोन के लिए एक सुरक्षा हाई अलर्ट जारी किया गया है, विशेष रूप से जहां विदेशी वाणिज्य दूतावास और उनके कर्मचारियों के आवास स्थित हैं।

क्षेत्र के एक निवासी ने कहा, हम विशेष रूप से अब्दुल्ला शाह गाजी के मकबरे के पास क्लिफ्टन ब्लॉक-4 में अधिक सुरक्षा देख रहे हैं, जहां चीन के कुछ वाणिज्य दूतावास, विदेशियों द्वारा अधिक इस्तेमाल में लाए जाने वाले रेस्तरां और कई कला दीर्घाएं स्थित हैं।

उन्होंने कहा, गुरुवार को स्थिति काफी गंभीर दिखाई दी। क्लिफ्टन ब्लॉक-4 के एक प्रमुख भाग को अस्थायी अवरोधों को खड़ा कर सील कर दिया गया।

प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि पुलिस वाहनों की भी जांच कर रही थी और इलाके के लोगों को चेक करने के लिए रोक रही थी।

सुरक्षा बलों का कहना है कि यह कवायद एक नियमित सुरक्षा उपायों का हिस्सा थी।

उप महानिरीक्षक (दक्षिण) जावेद अकबर रियाज ने कहा, अतिरिक्त सुरक्षा उपायों के हिस्से के रूप में कुछ मार्गों को अवरुद्ध कर दिया गया है। चिंता की कोई बात नहीं है।

सिंध प्रांत की राजधानी कराची पाकिस्तान की आर्थिक गतिविधियों का केंद्र है। देश की कुल कमाई का 65 प्रतिशत से अधिक यहीं से आता है। इसी वजह से इस पर आतंकवादी खतरे मंडराते रहते हैं।

कमेंट करें
qyzjZ