दैनिक भास्कर हिंदी: आर्मी चीफ बिपिन रावत बोले-AFSPA नहीं हटेगा

January 29th, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों में लागू सशस्त्र बल विशेषाधिकार अधिनियम (AFSPA) पर किसी भी तरह की पुनर्विचार से इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि कश्मीर के मौजूदा हालात सही नहीं हैं, ऐसे में अफस्पा के प्रावधानों को हल्का नहीं बनाया जा सकता।

बता दें कि (AFSPA) को लेकर काफी विवाद है और इसके दुरुपयोग का आरोप लगाकर लंबे समय से इसे हटाने की मांग की जाती रही है। (AFSPA) सेना को जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर के विवादित इलाकों में सुरक्षा बलों को विशेष सुरक्षा अधिकार देता है। इस एक्ट को हल्का बनाने की मांग की जा रही है, लेकिन जनरल रावत के बयान से साफ हो गया है कि फिलहाल अफस्पा को लेकर किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।

एक इंटरव्यू के दौरान जनरल रावत ने बताया कि जम्मू और कश्मीर जैसे तनावपूर्ण क्षेत्रों में तैनाती के दौरान सेना काफी सावधानी बरत रही है जिससे मानवाधिकारों की रक्षा की जा सके। एक सवाल का जवाब देते हुए जनरल रावत ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि अभी वह समय आया है जब अफस्पा पर फिर से विचार किया जाए।' उन्होंने कहा, अफस्पा के तहत जितनी सख्ती बरती जा सकती है, वैसा हमने कभी नहीं किया।

मानवाधिकारों को लेकर उन्होंने बताया कि इसे हम काफी चिंतित हैं, ऐसे में किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि हम पर्याप्त उपाय और ऐहतियात बरत रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि हमारी सेना का काफी अच्छा मानवाधिकार रेकॉर्ड रहा है।

जनरल रावत से जब ये पूछा गया कि, पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से निपटने के लिए तीनों सेनाओं को शामिल करते हुए सामूहिक अप्रोच की रणनीति अपनाई जाए? हालांकि इसका सीधा जवाब न देते हुए उन्होंने कहा, 'हां, हमारे पास कई प्रकार के विकल्प उपलब्ध हैं पर इसका खुलासा नहीं किया जा सकता है क्योंकि इससे दुश्मन सावधान हो सकता है।'