दैनिक भास्कर हिंदी: NDA के नेताओं ने औपचारिक तौर पर मोदी को चुना संसदीय दल का नेता

May 25th, 2019

हाईलाइट

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में 16वीं लोकसभा को भंग करने का प्रस्ताव पास किया गया है
  • 16वीं लोकसभा का कार्यकाल 3 जून को समाप्त हो रहा है
  • 17वीं लोकसभा का गठन 3 जून से पहले किया जाना है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के में ऐतिहासिक जीत के बाद एनडीए के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुन लिया है। पीएम मोदी 2019 में हुई जीत के बाद पहली बार संसद भवन पहुंचे हैं। इससे पहले  शुक्रवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में 16वीं लोकसभा को भंग करने का प्रस्ताव पास किया गया था। इस लोकसभा का गठन 18 मई 2014 को हुआ था और कार्यकाल 3 जून को समाप्त हो रहा है, इसीलिए इस तारीख से पहले 17वीं लोकसभा का गठन किया जाना है। लोकसभा भंग करने का प्रस्ताव पास होने के बाद मंत्रिपरिषद ने सामूहिक रूप से अपना इस्तीफा प्रधानमंत्री को सौंप दिया। 

मंत्रिपरिषद की बैठक में प्रधानमंत्री के प्रति आभार जताया गया और उनकी नेतृत्वकारी भूमिका और योगदान की सराहना की गई। प्रस्ताव पास होने के बाद पीएम मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर प्रधानमंत्री ने अपना और केन्द्रीय मंत्रिपरिषद का इस्तीफा सौंपा। राष्ट्रपति ने इस्तीफा स्वीकार करते हुए प्रधानमंत्री और उनके सहयोगियों से नई सरकार के गठन तक अपने पद पर बने रहने का अनुरोध किया। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में रात्रि भोज का आयोजन भी किया। उन्होंने यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में निवर्तमान केंद्रीय मंत्री के सम्मान में आयोजन किया।

बता दें कि लोकसभा चुनावों में आधिकारिक गिनती के साथ, भाजपा ने 303 सीटें हासिल कीं जो कि 2014 के चुनावों में मिली सीट के मुकाबले 22 अधिक है। बीजेपी के सहयोगी दलों को मिला लिया जाए तो NDA को 17वीं लोकसभा में 352 सीटें मिली है।
 

Live updates

5.40. PM : एनडीए के दलों ने सर्वसम्मति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुना। 

5.30. PM : भारतीय जनता पार्टी के सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुना।