comScore

दिल्ली पहुंचे किसानों का प्रदर्शन खत्म, मोदी सरकार ने मानी 5 मांगें


हाईलाइट

  • 11 सितंबर को सहारनपुर से शुरू हुई थी भारतीय किसान संगठन की पदयात्रा
  • 15 सूत्रीय मांगों को लेकर किसानों की ये यात्रा शुक्रवार को नोएडा पहुंची

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अपनी कई मांगो को लेकर उत्तर प्रदेश से राजधानी दिल्ली पहुंचे किसानों ने फिलहाल प्रदर्शन खत्म कर दिया है। मोदी सरकार ने किसानों की 15 में से पांच मांगों को मान लिया है। जिसके बाद किसानों ने प्रदर्शन बंद कर दिया लेकिन किसानों का कहना है, सरकार ने पूरी मांगे नहीं मानी हैं इसलिए यह प्रदर्शन स्थायी रूप से नहीं बंद नहीं हुआ है। बाकी मांगों को लेकर दस दिन बाद वह प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे। बता दें कि, हजारों किसान 15 सूत्रीय मांगों को मोदी सरकार के सामने रखने के लिए सहारनपुर से पैदल यात्रा करते हुए शनिवार को दिल्ली पहुंचे थे। 

दिल्ली आए किसानों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने कृषि भवन में जाकर कृषि मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात कर अपनी मांग रखी। इसके बाद किसानों ने अपना आंदोलन खत्म करने का ऐलान किया। बता दें कि किसानों को दिल्ली में घुसते ही बॉर्डर पर रोक लिया गया था। किसान सैकड़ों की तादाद में दिल्ली बॉर्डर पर धरने पर बैठ गए थे। उनकी मांगें थी कि सरकार उनसे बात करे या फिर उन्हें दिल्ली के किसान घाट जाने दिया जाए। इसके बाद किसानों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को दिल्ली पुलिस की गाड़ी में कृषि मंत्रालय ले जाया गया जहां उन्होंने अपनी मांगें रखीं।

राजधानी में भारी पुलिसबल तैनात है। कई रूट डायवर्ट कर दिए गए हैं। किसान गाजियाबाद के यूपी गेट पहुंच गए हैं। इसके बाद दिल्ली की तरफ जाने वाले ट्रैफिक को कौशांबी की तरफ डायवर्ट कर दिया गया है। एनएच-9 पर दिल्ली की तरफ जाने वाले ट्रैफिक को बंद किया गया है लेकिन दिल्ली की तरफ से आने वाले वाहनों का आना जाना जारी है।

15 सूत्रीय मांगों को लेकर 11 सितंबर को शुरू हुई किसानों की ये यात्रा शुक्रवार को नोएडा पहुंची। नोएडा में इस रैली के नेतृत्वकर्ता भारतीय किसान संगठन और कृषि मंत्रालय के बीच बातचीत हुई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। जिसके बाद किसानों-मजदूरों की समस्याओं को लेकर भारतीय किसान संगठन के नेतृत्व में हजारों किसान शनिवार को नोएडा से दिल्ली की बढ़े।

किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने भी पूरी तैयारी कर रखी थी। दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर दिल्ली पुलिस ने अपने जवानों को तैनात किए गए। सीआरपीएफ के जवानों को भी लगाया गया। फ्लाई ओवर के ऊपर और नीचे सीआरपीएफ और दिल्ली पुलिस के जवान तैनात किए गए।

किसानों की प्रमुख मांग है, उन्हें कम रेट पर बिजली मिले, गन्ने का भुगतान ब्याज सहित हो, किसान पेंशन शुरू हो, गोवंश की देखभाल का भत्ता बढ़ाया जाए, किसान और मजदूरों की शिक्षा और स्वास्थ्य मुफ्त हो, किसान दुर्घटना बीमा मिले, स्वामिनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो साथ ही किसानों की कर्ज माफी भी की जाए।

कमेंट करें
IbJxz