दैनिक भास्कर हिंदी: मौजूदा वित्त वर्ष में 7.5 फीसदी रहेगी भारत की विकास दर: वर्ल्ड बैंक

June 5th, 2019

हाईलाइट

  • वर्ल्ड बैंक ने पेश की 'ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोस्पेक्ट्स' रिपोर्ट
  • भारत समेत दुनियाभर के देशों की इकोनॉमी को लेकर अनुमान 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर विश्व बैंक से अच्छी खबर आई है। वर्ल्‍ड बैंक ने अनुमान लगाया है कि, भारत 7.5 फीसदी की दर से विकास करेगा। मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) से लेकर अगले दो साल तक भारत की ग्रोथ रेट 7.5 फीसदी पर ही बरकरार रहेगी, जबकि चीन की आर्थिक विकास दर में लगातार गिरावट होती जाएगी। 

दरअसल वर्ल्‍ड बैंक की 'ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोस्पेक्ट्स' की रिपोर्ट पेश की गई है। इस रिपोर्ट में भारत सहित पूरी दुनिया के देशों की अर्थव्यवस्था को लेकर अनुमान जाहिर किए गए हैं। वर्ल्‍ड बैंक के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष में भारत की विकास दर 7.5 फीसदी रहेगी और अगले दो साल तक ग्रोथ 7.5 फीसदी के आंकड़े पर ही बरकरार रहने का अनुमान है।

रिपोर्ट के मुताबिक, निवेश और निजी उपभोग में वृद्धि के चलते भारत 7.5 फीसदी की गति से विकास करेगा। हालांकि चीन की रफ्तार अगले तीन सालों में लगातार कम होती चली जाएगी। वर्ल्‍ड बैंक ने अनुमान लगाया है कि, भारत में स्‍थायी सरकार की वजह से निवेश में मजबूती आएगी। मुद्रास्फीति रिजर्व बैंक के लक्ष्य से नीचे है जिससे मौद्रिक नीति सुगम रहेगी। कर्ज की वृद्धि दर के मजबूत होने से निजी उपभोग और निवेश को भी फायदा होगा। 

तेजी से बढ़ती रहेगी भारतीय अर्थव्यवस्था
वहीं पाकिस्‍तान की जीडीपी को लेकर वर्ल्‍ड बैंक ने पूर्वानुमान में 0.2 फीसदी की कटौती की है। जबकि 2020 में पाकिस्‍तान की जीडीपी 7 फीसदी तक पहुंच सकती है। 2021 में यह आंकड़ा 7.1 फीसदी तक रहने का अनुमान है। वर्ल्ड बैंक के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ती रहेगी। चीन की तुलना में भारत 2021 तक 1.5 फीसदी अधिक रफ्तार से बढ़ रहा होगा। 2018 में चीन की रफ्तार 6.6 फीसदी रही, जो 2019 में 6.2 फीसदी रह जाएगी। 2020 में 6.1 फीसदी और 2021 में इसकी गति 6 फीसदी तक सिमट जाएगी। 

गौरतलब है कि हाल ही में सांख्यिकी विभाग ने जीडीपी के आंकड़े जारी किए थे। जिसमें मार्च तिमाही में भारत की विकास दर 5.8 प्रतिशत और पूरे वित्त वर्ष (2018-19) में 6.8 फीसदी रही। सालाना ग्रोथ 5 साल में सबसे कम है। इससे पहले 2013-14 में विकास दर 6.4% थी।