comScore

डोभाल से मुलाकात के बाद कश्मीर मुद्दे पर शाह ने बुलाई अहम बैठक

August 30th, 2018 16:40 IST
डोभाल से मुलाकात के बाद कश्मीर मुद्दे पर शाह ने बुलाई अहम बैठक

हाईलाइट

  • राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुलाई अहम बैठक
  • बैठक में शामिल हुए जम्मू सरकार के मंत्री
  • अगले सीएम को लेकर होगा बड़ा फैसला


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर दिल्ली में एक अहम बैठक बुलाई है। शाह ने अपनी इस बैठक में जम्मू सरकार के सभी मंत्रियों और शीर्षक्रम के नेताओं को बुलाया है। बैठक से ठीक पहले भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी अमित शाह से मिलने उनके निवास पर पहुंचे थे। कश्मीर में पिछले कुछ समय से फैल रहे तनाव को लेकर गृहमंत्रालय ने सेना को आक्रामक रवैया अपनाने के लिए कहा है। आतंकियों और पत्थरबाजो के प्रति आक्रामक कार्रवाई से पहले अमित शाह जम्मू-कश्मीर मंत्रिमंडल में शामिल पार्टी के सभी मंत्रियों की राय लेना चाहते हैं। 

अमित शाह से उनके निवास पर मिलने पहुंचे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल

हालांकि रमजान में लागू किए गए सीजफायर के दौरान जवानों पर हमले नहीं रूके, जिसकी वजह से भाजपा सरकार विपक्ष और खुद के सहयोगी दलों के निशाने पर रही है। ऐसे में पीडीपी और बीजेपी के गठबंधन के आगे चलते रहने पर भी संदेह की स्थिति बताई जा रही है। शाह का बैठक बुलाना किस बढ़े फैसले की ओर संकेत कर रहा है। कयास लगाए जा रहे है की इस बैठक में लोकसभा चुनावों के साथ कश्मीर के अगले सीएम को लेकर भी बात की जाएगी, लेकिन भाजपा बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष रवीन्द्र रैना पहले ही बयान दे चुके हैं, कि अलग सीएम बीजेपी से होगा। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि कश्मीर में मोदी सरकार कोई भी फैसला स्वतंत्र रूप से नहीं ले सकती है। उन्हें आज भी कश्मीर के मंत्रियों औऱ महबूबा मुफ्ती से बात करना होता है। 

महबूबा सरकार से नाराज भाजपा हाईकमान

जम्मू कश्मीर में तेज विकास व पारदर्शिता वाले प्रशासन के लक्ष्य के साथ पीडीपी से गठजोड़ करने वाला भाजपा हाईकमान महबूबा सरकार से नाराज है। इस नाराजगी की वजह महबूबा का कश्मीर केंद्रित रवैया है। बता दें कि राज्य में पार्टी ने संसदीय चुनाव की तैयारियों को तेजी देने की मुहिम चलाई है, ऐसे में पीडीपी ने अपने काम करने के तरीके में बदलाव न लाया तो भाजपा के लिए जम्मू संभाग में लोगों के बीच जाना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में भाजपा के लिए कोई बड़ा फैसला करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा। 

कमेंट करें
P6Vmc