comScore
Dainik Bhaskar Hindi

वायरल हुआ ‘नोटबंदी’ पर विशेष ‘बार-बार फेंको’ क्या आपने सुना?

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 07th, 2017 12:18 IST

1.9k
0
0

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। वो दिन तो सबको याद होगा जब लोगों ने पूरी रात बिना सोए बिताई, किसी को तकिये के नीचे रखा ब्लैक मनी सता रहा था, जबकि कुछ लोग ऐसे थे जिन्होनें यही सोचते-सोचते सुबह कर दी कि ‘आगे क्या होगा।‘ अब तक तो आप समझ ही गए होंगे, हम बात कर रहे हैं 8 नवंबर 2016 की जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि आज रात यानि 8 नवंबर रात 8 बजे से 500 और 1000 के नोट बंद हो जाएंगे। इसके पीछे उनका तर्क था कि काला धन वापस आएगा, लोग इलैक्ट्रॉनिक पेयमेंट का ज्यादा इस्तेमाल करेंगे, लेकिन नोटबंदी से जो हुआ वो आप सब भी जानते हैं। 8 नवंबर 2017 को नोटबंदी को एक साल होने वाला है, इस मौके पूरे देश में बहस छिड़ी हुई है कि क्या ये फैसला सही था ? नोटबंदी एक साल में पास हुई या फेल ! ऐसे में नोटबंदी पर बना एक वीडियो खूब तेजी वायरल हो रहा है। आइए आपको बताते हैं आखिर इस वीडियो में ऐसा क्या है कि कुछ ही दिनों में इसे लाखों लोगों ने देखा है।

‘बार-बार फेंको.. 


जी हां इसी टायटल के साथ ये गाना सोशल मीडिया पर छाया हुआ है, बॉलीवुड सॉंन्ग बार-बार की तर्ज पर बना ये सॉन्ग काफी मजेदार है। इस पैरोडी गाने के बोल हैं  ‘बार-बार फेंको हजार बार फेंको..ये फेंकने में तेज है विकास के पिता’। द बैनड नाक यूट्यूब चैनल ने इसे शेयर किया है। बहुत ही साधारण से दिखने वाले युवाओं ने इस वीडियो में चाय वाले, सफाई वाले और अपनी हॉस्टल लाइफ के अकॉर्डिंग इसको बनाया है, जो कि काफी हद तक आम लोगों के जीवन पर नोटबंदी के असर को दिखा रहा है कि आम लोग को नोटबंदी से कैसे दो-चार होना पड़ रहा है।

5 लोगों ने मिलकर चलाया व्यंग्य का तीर

इस व्यंग्यात्मक गाने में साफ-साफ आलोचना न करते हुए, घुमा फिर कर सरकार के इस फैसले की निंदा की है। इन युवाओं के नाम है रमणीक सिंह, रॉसी डिसूज़ा, मयंक, धम्मरक्षित, सिद्धार्थ और मिथुन। अलग अलग समुदाय से आये इन यूथ का कहना है कि ‘नोटबंदी’ पर राजनीति तो बहुत हुई लेकिन आम लोगों की समस्याओं को किसी ने नहीं समझा, और देशभक्ति का हवाला देकर उनको परेशान किया।

कैसा मिला रिएक्शन ?

अब कुछ किया है तो प्रतिक्रिया मिलना भी जरूरी है, ऐसे में ग्रुप के सदस्यों को भी आलोचना का सामना करना पड़ा, बल्कि किसी ने तो उनको कांग्रेस सपोर्टर ही बोल दिया। जिस पर गुप के सदस्यों का कहना है कि ‘उन्होनें केवल सरकार के फैसले की निंदा की है, किसी पार्टी से उनका काई लेना देना नहीं है।

वहीं एक यूजर ने कमेंट कर कहा कि ’ संभल कर रहना, देश में जिस तरीके का मौहोल बना हुआ है, तो आपको गिरफ्तार भी किया जा सकता है।’ 


 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download