comScore

मिशन शक्ति : विपक्ष ने की EC से मोदी की शिकायत, अफसरों का पैनल करेगा जांच


हाईलाइट

  • विपक्ष ने पीएम मोदी की एंटी-सैटेलाइट मिसाइल के सफल परीक्षण की घोषणा को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन बताया है।
  • चुनाव आयोग के संज्ञान में आने के बाद अधिकारियों की एक समिति को इसकी तुरंत जांच करने के निर्देश दिए गए हैं।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विपक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एंटी-सैटेलाइट मिसाइल के सफल परीक्षण की घोषणा को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन बताया है। ये मामला चुनाव आयोग के संज्ञान में आने के बाद अधिकारियों की एक समिति को इसकी तुरंत जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि भारत ने लो अर्थ ऑर्बिट में लाइव सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता विकसित कर ली है। इस प्रोजेक्ट को मिशन शक्ति नाम दिया गया है।

पीएम मोदी की इस घोषणा के बाद कांग्रेस ने आरोप लगया था कि पीएम वैज्ञानिकों की उपलब्धियों पर राजनीति कर रहे हैं। जबकि अन्य विपक्षी दलों ने पीएम पर आदर्श आचार संहिता (MCC) के उल्लंघन का आरोप लगाया और चुनाव आयोग में इसका शिकायत की। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि पीएम मोदी की घोषणा 'ड्रामा और चुनावी स्टंट था। इस  वजह से ये आदर्श आचार संहिता का घोर उल्लंघन है। उन्होंने प्रधानमंत्री पर राजनीतिक लाभ लेने के लिए घोषणा करने का आरोप लगाया।

ममता बनर्जी ने कहा, चुनाव के समय में आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन कर पीएम मोदी को घोषणा कर श्रेय लेने की क्या जरुरत थी? क्या पीएम वहां काम करते हैं? क्या वह अंतरिक्ष में जा रहे हैं? उन्होंने कहा, मिशन शक्ति के बारे में डीआरडीओ को जानकारी देनी चाहिए थी न कि पीएम मोदी को। वैज्ञानिकों को इसकी घोषणा करनी चाहिए थी इसका श्रेय उन्हें मिलना चाहिए।

सीपीआई-एम ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि प्रधानमंत्री की आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेता सीताराम येचुरी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कहा, इस तरह का मिशन देश को आमतौर पर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) बताता है, लेकिन इस बार प्रधानमंत्री ने इसको लेकर राष्ट्र के नाम संबोधन किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार हैं. ऐसे में चुनाव आचार सहिंता लागू होने के बाद उनको इसकी इजाजत कैसे दी जा सकती है?

बता दें कि भारत ने लो अर्थ ऑर्बिट में लाइव सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता विकसित कर ली है। इस प्रोजेक्ट को मिशन शक्ति नाम दिया गया था। अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत भी उन देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है जिसके पास लो अर्थ ऑर्बिट में लाइव सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्र को इस बारे में बताया। एंटी सैटेलाइट मिसाइल (A-SAT) के जरिए भारत ने एक पूर्व निर्धारित लाइव सैटेसाइट को तीन मिनट में मार गिराया।

कमेंट करें
zi3SP