comScore

करतारपुर कॉरिडोर: भारत-पाक की द्विपक्षीय वार्ता खत्म, पाक ने मानी भारत की मांग


हाईलाइट

  • करतारपुर साहिब कॉरिडोर भारत-पाक के बीच द्विपक्षीय वार्ता खत्म
  • कॉरिडोर निर्माण को लेकर सभी मतभेदों पर हुई चर्चा
  • गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से पहले निकाला जाएगा समाधान !

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। भारत और पाकिस्तान के बीच एक बार फिर करतारपुर कॉरिडोर को लेकर द्विपक्षीय बैठक खत्म हो चुकी है। दोनों देशों के अधिकारियों के बीच कॉरिडोर पर जारी गतिरोध दूर करने की रणनीति पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में भारत ने पाकिस्तान के सामने श्रद्धालुओं के लिए वीजा मुक्त यात्रा की मांग रखी है। सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान में भारत की इस मांग को मान लिया है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने कहा कि 80 फीसदी मुद्दों पर दोनों देशों के बीच सहमति बन गई। बाकी मुद्दों को सुलझाने के लिए दोनों देशों के बीच एक और बैठक किए जाने की जरूरत है।

बैठक खत्म होने के बाद गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (आतंरिक सुरक्षा)  एससीएल दास ने बताया, भारत ने डेरा बाबा नानक और आसपास के इलाकों में बाढ़ को लेकर चिंता को पाकिस्तान से अवगत कराया। तटवर्ती इलाकों में सड़क निर्माण का कार्य पाकिस्तान की तरफ से पूरा किया जा था। भारत की ओर प्रतिनिधिमंडल की एससीएल दास अगुवाई की। जबकि पाकिस्तान की ओर से 20 प्रतिनिधि शामिल हुए। जिसका नेतृत्व मोहम्मद फैसल ने किया। हालांकि बारिश के चलते वाघा बार्डर पर बैठक देर से शुरू हुई। पहले सुबह 9.30 बजे बैठक का वक्त तय था।

बता दें कि पिछली बैठक 14 मार्च को अटारी यानि भारत की सीमा के अंदर हुई थी। जिसमें दोनों देशके बीच गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के लिए कॉरिडोर को श्रदालुओं के लिए खोलने को लेकर बातचीत हुई थी। गौरतलब है कि करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत तेजी से काम कर रहा है। कॉरिडोर पर जो पैसेंजर टर्मिनल बन रहा है। वहां 500 गाड़ियों की पार्किंग की व्यवस्था रहेगी। त्योहार के दिन हजारों की संख्या में आने-वाले यात्रियों को देखते हुए खास लाउंज बनाया जा रहा है। भारत सरकार की ओर से कॉरिडोर को बनाने के लिए 30 इंजीनियर और 200 से ज्यादा मजदूर लगाए गए हैं। प्री फेब्रिकेटेड स्टील स्ट्रक्चर से पैसेंजर टर्मिनल तैयार किया रहा है। इस अत्याधुनिक टर्मिनल में एयरपोर्ट की तरह तमाम आधुनिक सुविधाएं होंगी। वहीं भारत सरकार एनएचएआई रोड तैयार करने में जुटा है। भारत की तरफ से 60 फीसदी से ज्यादा काम पूरा हो चुका है। 

कमेंट करें
Nl6hO