comScore

पाक का झूठ बेनकाब, श्रीलंका ने कहा- आतंकी हमला क्रिकेटरों के टूर कैंसिल का कारण

पाक का झूठ बेनकाब, श्रीलंका ने कहा- आतंकी हमला क्रिकेटरों के टूर कैंसिल का कारण

हाईलाइट

  • श्रीलंका ने पाकिस्तान के मंत्री फवाद हुसैन चौधरी के दावों को खारिज कर दिया
  • चौधरी ने कहा था कि पाक टूर से 10 खिलाड़ियों के नाम वापस लेने का कारण भारत है
  • श्रीलंका ने कहा, 2009 की घटना के मद्देनजर खिलाड़ियों ने नहीं खेलने का फैसला किया

डिजिटल डेस्क, कोलंबो। श्रीलंका के मंत्री हरिन फर्नांडो ने पाकिस्तान के मंत्री फवाद हुसैन चौधरी के दावों को खारिज कर दिया है। इन दावों में चौधरी ने कहा था कि पाकिस्तान टूर से 10 क्रिकेटरों के नाम वापस लेने का कारण भारत है। चौधरी ने कहा था कि भारत ने इन खिलाड़ियों को नाम वापस लेने के लिए मजबूर किया।

फर्नांडो ने कहा, 'इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि भारत ने श्रीलंकाई खिलाड़ियों को पाकिस्तान में नहीं खेलने के लिए प्रभावित किया। कुछ लोगों ने 2009 की घटना के मद्देनजर नहीं खेलने का फैसला किया। उनके फैसले का सम्मान करते हुए हमने उन खिलाड़ियों को चुना जो टूर के लिए तैयार थे। हमारे पास एक फुल स्ट्रैथ वाली टीम है और हमें उम्मीद है कि हम पाकिस्तान में जाकर पाकिस्तानी टीम को हराने में कामयाब होंगे।

इससे पहले पाकिस्तान के मंत्री फवाद हुसैन चौधरी ने ट्वीट कर कहा था, 'कुछ जानकार स्पोर्ट्स कॉमेंटेटर्स ने मुझे बताया कि भारत ने श्रीलंका के खिलाड़ियों को धमकी दी है कि अगर उन्होंने पाकिस्तान के दौरे पर जाने से मना नहीं किया तो उन्हें आईपीएल से बाहर कर दिया जाएगा। यह वास्तव में सस्ती रणनीति है।' उन्होंने कहा था, 'खेल से लेकर अंतरिक्ष तक, कट्टर राष्ट्रवाद कुछ ऐसा छा गया है जिसकी हमें निंदा करनी चाहिए। भारतीय अधिकारियों की यह घटिया हरकत है।'

बता दें कि सोमवार को श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए पाकिस्तान के आगामी दौरे से अपना नाम वापस ले लिया था। टी-20 कप्तान लसिथ मलिंगा और वनडे कप्तान दिमुथ करुणारत्ने सहित दस श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने अपना नाम वापस लिया था।

श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने कहा था कि राष्ट्रीय खिलाड़ियों को छह मैचों की लिमिटेड ओवर सीरीज़ के लिए सुरक्षा व्यवस्था के बारे में जानकारी दी गई थी। उन्हें यह तय करने की स्वतंत्रता भी दी गई थी कि वे जाना चाहते हैं या नहीं। ब्रीफिंग के बाद, 10 खिलाड़ियों ने कराची में 27 सितंबर से शुरू होने वाले तीन एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और तीन टी-20 मैचों की सीरीज से दूर रहने का फैसला लिया।

मार्च 2009 में लाहौर में एक टेस्ट मैच के दौरान श्रीलंकाई टीम की बस पर एक आतंकवादी हमला हुआ था। इस हमले के बाद, अधिकांश अंतरराष्ट्रीय टीमों ने दक्षिण एशियाई देश का दौरा करने से इनकार कर दिया। इस हमले के बाद यह श्रीलंका का दूसरा पाकिस्तान दौरा होगा।

अक्टूबर 2017 में थिसारा परेरा की अगुवाई में श्रीलंकन टीम ने लाहौर में T-20 मैच खेला था। हालांकि परेरा ने इस बार सीरीज से दूर रहने का फैसला लिया है।
 

कमेंट करें
sWiyT