comScore

कर्नाटक: विधानसभा सुबह 10 बजे तक के लिए स्थगित, शाम 6 बजे तक होगा फ्लोर टेस्ट

कर्नाटक: विधानसभा सुबह 10 बजे तक के लिए स्थगित, शाम 6 बजे तक होगा फ्लोर टेस्ट

हाईलाइट

  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार बचेगी या जाएगी इस आज फैसला हो सकता है
  • विधानसभा में विश्वास मत प्रस्ताव पर बहस खत्म होने के बाद होगा फ्लोर टेस्ट 

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरू। कर्नाटक में पिछले कई दिनों से जारी सियासी ड्रामा सोमवार को भी खत्म नहीं हो सका। कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी की सरकार बनी रहेगी या जाएगी इस पर हर किसी की नजर है। विधानसभा में चल रही विश्वास मत प्रस्ताव पर बहस अब मंगलवार तक खत्म हो सकती है, जिसके बाद फ्लोर टेस्ट होगा। अल्पमत के संकट से जुझ रहे कुमारस्वामी को बहुमत साबित करना होगा।

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा, 'कल हम अपने कुछ सदस्यों के बोलने के बाद, फ्लोर टेस्ट पूरा करेंगे। कल शाम 4 बजे तक हम चर्चा खत्म करेंगे, शाम 6 बजे तक हम फ्लोर टेस्ट खत्म कर देंगे।'

गठबंधन के विधायकों ने कर्नाटक विधानसभा में संविधान बचाओ नारे लगाए। इन नारों पर स्पीकर ने विधायकों से कहा कि 'मैं 12 बजे तक बैठने के लिए तैयार हूं। आप लोग ऐसा क्यों कर रहे हैं? यह सही नहीं है। 

बीजेपी के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा, 'जब कांग्रेस-जेडीएस के विधायक बोल रहे थे तो हमने विरोध नहीं किया। सिद्धारमैया, सीएम और आप (अध्यक्ष) ने वादा किया था कि आज विश्वास मत कराएंगे और बहुमत साबित करेंगे। मैंने चीफ विप सुनील से भी इसे आज ही समाप्त करने की बात की है। हम 12 बजे रात तक सदन में ही रहेंगे। कृपया मुझे विश्वास मत पर आगे बढ़ने दीजिए।

कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी ने स्पीकर से विश्वास मत कराने के लिए और दो दिन का समय मांगा है, जबकि बीजेपी के प्रतिनिधिमंडल ने आग्रह किया है कि आज ही फ्लोर टेस्ट कराया जाए। स्पीकर ने कांग्रेस-जेडीएस के नेताओं से साफ कह दिया है, आप आज आधी रात तक चर्चा कर सकते हैं लेकिन मुझे विश्वास मत के लिए वोटिंग आज ही करानी है। स्पीकर ने कहा, आज अपने भाषणों में ध्यान रखें कि सदन की गरिमा बनी रहे। ये सब वक्त जाया करने की तरकीबें हैं। इनसे सदन, स्पीकर और विधायक के तौर पर आपकी भी छवि खराब होती है।

स्पीकर ने कहा, कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया को संविधान के 10वें शेड्यूल के तहत अधिकार है कि वह विप का उल्लंघन करने वाले विधायकों पर कार्रवाई कर सकते हैं। सरकार ने साफ कर दिया है कि विप का उल्लंघन करने और फ्लोर टेस्ट में हिस्सा न लेने पर 14 विधायकों की सदस्यता स्पीकर खत्म कर सकते हैं।

बीजेपी सत्ता में आने के लिए राज्यपाल का इस्तेमाल कर रही है। यह साफ है कि फैसला स्पीकर को लेना है। बीजेपी के लिए बेहतर होगा कि वह इंतजार करे। उन्होंने कहा, जब अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी तब फ्लोर टेस्ट होने में 10 दिन लग गए। इसलिए हमें जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। बीजेपी सत्ता के लिए जल्दी में है। विधानसभा में शिवकुमार ने कहा, बीजेपी क्यों नहीं मान रही कि उन्हें कुर्सी चाहिए। क्यों नहीं मानते कि वे ऑपरेशन कमल चला रहे हैं। उन्होंने बागी विधायकों से बात की है।

वहीं कर्नाटक में जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट की मांग वाली दो निर्दलीय विधायकों की याचिका पर तत्काल सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने इनकार कर दिया। इन निर्दलीय विधायकों की याचिका पर कोर्ट कल यानी मंगलवार को सुनवाई करेगा।

स्पीकर केआर रमेश ने कहा, मुझे भरोसा है कि विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा आज पूरी हो जाएगी और सदन वोटिंग के लिए सहमत होगा। मैं अकेले इस पर फैसला नहीं कर सकता लेकिन मुझे विश्वास है कि सरकार वोटिंग आज कराने के अपने वादे को निभाएगी।

कर्नाटक में फ्लोर टेस्ट से पहले बीजेपी विधायकों के साथ पूर्व सीएम और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा बस में बैठकर एक साथ विधानसभा पहुंचे। बसपा विधायक एन. महेश आज भी विधानसभा नहीं पहुंचे। बता दें कि बसपा सुप्रीमों मायावती ने अपने विधायक को कर्नाटक सरकार के हक में मतदान करने का आदेश दिया था, लेकिन अभी तक वह सदन में नहीं पहुंचे हैं। 

फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। विधानसभा और राजभवन रोड पर भी भारी सुरक्षाबल तैनात किया गया है। एक तरफ उम्मीद जताई जा रही है विधानसभा में आज ही फ्लोर टेस्ट होना है तो दूसरी ओर स्पीकर ने बागी विधायकों के अयोग्यता वाले मामले में उन्हें मंगलवार को पेश होने को कहा है। स्पीकर ने 11 बागी विधायकों को पत्र लिखकर मंगलवार सुबह 11 बजे पेश होने को कहा है।

गौरतलब है कि, कांग्रेस-जेडीएस के विधायकों के इस्तीफे के बाद से राज्य की गठबंधन वाली सरकार मौजूदा समय में अल्पमत का सामना कर रही है। जिसकी वजह से दोनों दलों के नेताओं ने फ्लोर टेस्ट से एक दिन पहले यानी रविवार की रात कई बैठकें की। सरकार बचाने के लिए एचडी कुमारस्वामी हर संभव कोशिश कर रहे हैं। रविवार शाम उन्होंने इसी के तहत बागी विधायक आनंद सिंह से बात की और उन्हें मनाने की कोशिश की। कुमारस्वामी ने उनसे फोन पर भी बात की, इतना ही नहीं उन्होंने आनंद सिंह के परिवार से उन्हें मनाने के लिए भी कहा।

कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार का कहना है, जेडीएस सरकार बचाने के लिए किसी भी तरह के त्याग के लिए तैयार है। ऐसे में कांग्रेस की ओर से किसी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए भी तैयार हैं। उन्होंने इसके बारे में हमारे हाईकमान को भी बता दिया है। सियासी उठापटक के बीच बीजेपी लगातार अपने पास बहुमत होने का दावा कर रही है। 

कमेंट करें
FRf8K