comScore

कर्नाटक संकट LIVE: स्पीकर को सुरक्षा घेरे में साथ लेकर विधानसभा पहुंचे पुलिस कमिश्नर


हाईलाइट

  • 16 विधायकों के इस्तीफे से कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार संकट में 

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरू। कर्नाटक के बेंगलुरु में गुरुवार को पुलिस कमिश्नर विधानसभा स्पीकर को अपने साथ लेकर सभागृह में पहुंचे। इससे पहले कर्नाटक में चल रहा सियासी ड्रामा अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया, कोर्ट ने गुरुवार को विधायकों के इस्तीफे के मुद्दे पर सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने सभी बागी विधायकों को शाम 6 बजे स्पीकर के सामने पेश होने को कहा, SC ने कर्नाटक विधानसभा स्पीकर को भी इस मामले में फैसला लेने के लिए कहा है। कोर्ट ने कर्नाटक के डीजीपी को सभी बागी विधायकों को सुरक्षा देने का भी आदेश दिया।

कर्नाटक में पिछले कई दिनों से जारी राजनीतिक संकट को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त हो गया है। कोर्ट ने जेडीएस-कांग्रेस के 10 बागी विधायकों से आज शाम 6 बजे कर्नाटक के स्पीकर से मिलने को कहा है। SC ने कहा, अगर वे चाहें तो अपना इस्तीफा सौंप सकते हैं। इतना ही नहीं, कोर्ट ने कहा, कर्नाटक के स्पीकर को आज बचे हुए दिन में ही फैसला लेना होगा। अदालत ने कर्नाटक के DGP को आदेश दिया है कि वह सभी बागी विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराएं। मामले की अगली सुनवाई कल यानी 12 जुलाई को होगी।

कर्नाटक स्पीकर केआर रमेश ने बागी विधायकों के इस्तीफे को स्वीकार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से और वक्त मांगा, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई से ही इनकार कर दिया। 

वहीं कांग्रेस के बागी विधायक मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयपोर्ट पहुंच गए हैं। यहां से सभी बेंगलुरु रवाना होंगे जहां उन्हें स्पीकर के सामने पेश होना है।

कर्नाटक के राजनीतिक संकट को लेकर कांग्रेस धरने पर बैठ गई है। संसद परिसर में महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने हो रहे इस प्रदर्शन में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी सहित पार्टी के कई वरिष्ठ नेता शामिल हैं। कांग्रेस का आरोप है, बीजेपी विधायकों की खरीद फरोख्त कर कर्नाटक सरकार गिराना चाहती है।

इसी बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कैबिनेट बैठक बुलाई है। बता दें कि, अभी तक कुल 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं, जिसकी वजह से कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार पर संकट बना हुआ है।बुधवार को कर्नाटक के मंत्री डीके शिवकुमार बागी विधायकों को मनाने मुंबई पहुंचे थे, जहां से पुलिस ने उनको हिरासत में ले लिया था और जबरन बेंगलुरु भेज दिया गया। 

दरअसल जिन 10 विधायकों ने इस्तीफा दिया है उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई है कि, स्पीकर उनका इस्तीफा मंजूर नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस- जेडीएस के बागी विधायकों ने स्पीकर पर अपने संवैधानिक कर्तव्य का पालन न करने और जानबूझकर उनके इस्तीफे को स्वीकार करने में देरी का आरोप लगाया है। सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, दीपक गुप्ता और अनिरुद्ध बोस की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी। कांग्रेस की तरफ से कोर्ट में अभिषेक मनु सिंघवी, कर्नाटक के बागी विधायकों की तरफ से मुकुल रोहतगी पेश होंगे।

शुक्रवार से कर्नाटक विधानसभा का सत्र शुरू होना है, बीजेपी इस सेशन को अवैध बता रही है। इस बीच कर्नाटक विधानसभा के आसपास धारा 144 लगा दी गई है। 11 से 14 जुलाई तक बेंगलुरु के विधान सौधा में धारा 144 लागू रहेगी।मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आज कैबिनेट बैठक बुलाई है। वहीं, स्पीकर रमेश कुमार का कहना है, अभी तक उन्होंने कोई इस्तीफा मंजूर नहीं किया है। इसका एक नियम है, वह नियम के अनुसार ही काम करेंगे।

कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया ने इस राजनीतिक संकट के पीछे पीएम मोदी और अमित शाह को जिम्मेदार बताया है। बीजेपी की आलोचना करते हुए सिद्धारमैया ने पार्टी के विधायकों और कार्यकर्ताओं को गुंडा तक कह डाला। सिद्धारमैया ने कहा, बीजेपी के विधायक और कार्यकर्ता उपद्रवी हैं। मैं इसकी निंदा करता हूं।

कमेंट करें
Gnh5M