comScore

नवी मुंबई: उरण में ONGC प्लांट में भीषण आग, 4 लोगों की मौत, मृतकों में 3 जवान भी शामिल

नवी मुंबई: उरण में ONGC प्लांट में भीषण आग, 4 लोगों की मौत, मृतकों में 3 जवान भी शामिल

हाईलाइट

  • उरण स्थित ऑयल ऐंड नैचरल गैस कॉर्पोरेशन (ONGC) गैस प्लांट में भीषण आग
  • पुलिस ने प्लांट के करीब 3 किमी तक के इलाके को खाली कराया

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र में नवी मुंबई के उरण में ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ONGC) के प्लांट में मंगलवार सुबह भीषण आग लग गई। प्लांट में लगी भीषण आग की चपेट में आने से केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के तीन जवानों समेत चार लोगों की मौत हो गई। हादसे में तीन सीआईएसएफ जवान जख्मी भी हैं। आग इतनी भीषण थी कि एहतियातन प्रशासन ने आसपास का तीन किलोमीटर इलाका खाली करा लिया। आग पर काबू पाने के लिए करीब दो घंटे कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। 

आस पास के इलाके को एहतियातन खाली कराया गया। पुलिस ने प्लांट के 3 किलोमीटर तक के इलाके को खाली कराया है। आग के कारण प्लांट में गैस सप्लाई भी बंद कर दी गई। सीआईएसएफ के सीनियर कमांडेंट विष्णु स्वरूप ने बताया कि आग पर काबू पाने के दौरान सीआईएसएफ अग्निशमन विभाग के जवानों एनए नायक, एम पासवान व एसपी कुशवाहा की मौत हो गई इसके अलावा ओएनजीसी कर्मचारी सीएन राव भी हादसे का शिकार हो गए। आग मंगलवार सुबह सात बजे के करीब लगी। सूचना मिलते ही सीआईएसएफ जवान इसे काबू करने की कोशिश में जुड़ गए। आग लगते ही सीआईएसएफ जवान मौके पर पहुंचे लेकिन तभी जोरदार धमाका हुआ जिसमें सात लोग बुरी तरह जख्मी हो गए। सातों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन इनमें से चार की मौत हो गई जबकि तीन लोगों का अब भी इलाज जारी है। केमिकल के चलते आसपास रहने वालों को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी इसलिए उन्हें सुरक्षित जगहों पर ले जाया गया।  

स्थानीय लोगों ने बताया, जिस वक्त प्लांट में आग लगी उस वक्त जोरदार धमाके की आवाज सुनी गई थी। प्लांट के आस-पास रहने वाले लोग गैस और आग फैलने के डर से अपना घर छोड़कर दूर चले गए।

ओएनजीसी ने बयान जारी कर कहा, ओएनजीसी प्लांट में स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज में आग लगी। ओएनजीसी फायर सर्विस ऐंड क्राइसिस मैनेजमेंट की टीम मौके पर पहुंची। ऑयल प्रोसेसिंग में कोई प्रभाव नहीं पड़ा है और गैस को हजीरा प्लांट में डायवर्ट कर दिया गया है। 

ओएनजीसी प्लांट में एलपीजी के चलते आग बेहद तेजी से फैली और जानलेवा साबित हुई। बढ़ती आग पर काबू पाने के लिए गैस की प्रोसेसिंग बंद कर उसकी सप्लाई रोक दी गई। लेकिन उरण प्लांट में ऑयल प्रोसेसिंग प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ा है। यहां के गैस को जरीहा प्लांट में भेजा जा रहा है जहां से मुंबई में गैस की आपूर्ति की जाती है। इसके अलावा प्लांट से विदेशों में भी गैस की सप्लाई होती है। हादसे का असर मुंबई में गैस सप्लाई पर भी पड़ा है। 

कमेंट करें
vSc53