comScore

नीति आयोग: राजीव कुमार बोले- 70 साल में नकदी का अभूतपूर्व संकट


हाईलाइट

  • देश में नकदी का बड़ा संकट मंडराया
  • 70 साल में नकदी का पहली बार अभूतपूर्व संकट आया- राजीव कुमार
  • नोटबंदी, जीएसटी और आईबीसी के बाद हर चीज बदल गई- राजीव कुमार

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने नकदी के संकट को लेकर कहा है कि 70 सालों में देश ने कभी इस तरह की नकदी के संकट का सामना नहीं किया है। जैसा आज करना पड़ रहा है। पूरा वित्तीय सेक्टर उथल पुथल के दौर से गुजर रहा है और कोई भी दूसरे पर भरोसा नहीं कर रहा है। कोई भी किसी को कर्ज देने को तैयार नहीं है, सब नकद दाबकर बैठे हैं। 

राजीव कुमार ने दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि इस गंभीर स्थिति से बाहर निकलने के लिए सही समय पर कठोर और अभूतपूर्व कदम उठाया जाना जरूरी हो गया है। इसके साथ ही निजी क्षेत्र की आशंकाओं को दूर करने के लिए सरकार को हरसंभव प्रयास करना चाहिए।

राजीव कुमार ने कहा, नोटबंदी, जीएसटी और आईबीसी (दीवालिया कानून) के बाद हर चीज में बदलाव देखा गया। पहले 35 फीसदी नकदी आसानी से मिल जाती थी, वो अब काफी कम हो गया है। इन सभी कारणों से स्थिति काफी जटिल हो गई है। उन्होंने वित्तीय संकट के लिए 2004 से 2011 के बीच हाई क्रेडिट ग्रोथ के कारण बढ़े एनपीए की समस्या को मौजूदा संकट के लिए जिम्मेदार बताया।

कमेंट करें
Nz5ok