comScore

नोबेल विजेता बनर्जी पर पीयूष गोयल का निशाना, सोच को बताया लेफ्ट लीनिंग

नोबेल विजेता बनर्जी पर पीयूष गोयल का निशाना, सोच को बताया लेफ्ट लीनिंग

हाईलाइट

  • अभिजीत बनर्जी के मोदी सरकार पर निशाना साधने के बाद भाजपा ने पलटवार किया है
  • पीयूष गोयल ने अभिजीत बनर्जी की सोच को लेफ्ट लीनिंग करार दिया
  • अभिजीत बनर्जी ने अर्थशास्त्र में साल 2019 का नोबेल पुरस्कार जीता है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था को लेकर नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी के मोदी सरकार पर निशाना साधने के बाद भाजपा ने पलटवार किया है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने अभिजीत बनर्जी की सोच को लेफ्ट लीनिंग करार दिया।

पीयूष गोयल ने कहा कि ' अभिजीत बनर्जी को नोबेल प्राइज मिलने के लिए बधाई देता हूं, लेकिन उनकी समझ के बारे में तो आप सब जानते हैं। उनकी जो सोच है वो पूरी तरह से लेफ्ट लीनिंग है। उन्होंने NYAY (कांग्रेस की योजना) के बड़े गुनगान गाए थे, लेकिन भारत की जनता ने उनकी सोच को पूरी तरह से रिजेक्ट कर दिया।

अभिजीत बनर्जी ने कहा था 'भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति डांवाडोल है। मौजूदा विकास दर के आंकड़ों से यह आश्वासन नहीं मिलता कि इसमें जल्द सुधार आएगा।' उन्होंने कहा था, 'पिछले 5-6 साल में हमने थोड़ी ग्रोथ देखी, लेकिन अब वह आश्वासन भी नहीं रहा। भारत में बहुत बड़ी लड़ाई चल रही है कि किसका डेटा सही है और सरकार का एक विशेष दृष्टिकोण है कि जो उसके लिए असुविधाजनक है, वह गलत है, लेकिन फिर भी मुझे लगता है कि कुछ समस्या है जिसे सरकार मान रही है।

अर्थव्यवस्था की रफ्तार बहुत तेजी से धीमी हो रही है। यह रफ्तार कितनी धीमी है, हमें पता नहीं है।' हालांकि उन्होंने ये भी साफ किया था कि उनकी ये राय मौजूदा हालातों के बारे में हैं। भविष्य में क्या होगा, मौजूदा राय इसके बारे में नहीं है।

अभिजीत बनर्जी के बाद पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने भी मोदी सरकार पर अर्थव्यवस्था को लेकर निशाना साधा था। एक कार्यक्रम के दौरान मुंबई में पूर्व पीएम ने कहा था कि 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी तक पहुंचने की कोई उम्मीद नहीं है। इसके लिए सालाना 10-12 फीसदी ग्रोथ की जरूरत होगी, लेकिन भाजपा के कार्यकाल में साल दर साल विकास दर में गिरावट आ रही है।

उन्होंने कहा था कि अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए असली दिक्कतों और वजहों का पता लगाना जरूरी होता है। सरकार की उदासीनता से देश के लोगों की महत्वाकांक्षाएं और भविष्य प्रभावित हो रहा है। 

कमेंट करें
dunLa