comScore

पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र को देनी थी 22 बंदूकों की सलामी, एक भी नहीं चली 


हाईलाइट

  • पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई देते वक्त 22 बंदूकों में से एक नहीं चली

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र की अंतिम विदाई के दौरान बिहार पुलिस की पोल खुल गई। जगन्नाथ मिश्र को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई देते वक्त उन्हें 22 बंदूकों की सलामी देनी थी, लेकिन इनमें से एक भी बंदूक से गोली नहीं चल सकी। इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत कई मंत्री और अधिकारी मौजूद थे।

दरअसल बिहार के तीन बार सीएम रहे जगन्नाथ का 19 अगस्त को दिल्ली में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। बुधवार को सुपौल जिले के अंतर्गत आने वाले पैतृक गांव बलुआ में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान प्रशासनिक स्तर पर सभी तैयारियां पूरी होने का दावा किया गया। जब जगन्नाथ मिश्र को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दिए जाने का वक्त आया तभी पुलिसकर्मियों की 22 बंदूकों में से एक भी बंदूकें नहीं चलीं। यह देखकर प्रशासनिक अमले के होश उड़ गए। 

पुलिस के मुताबिक, अंतिम संस्कार के दौरान 22 पुलिस जवानों ने पूर्व मुख्यमंत्री को अंतिम सलामी देनी चाही, परंतु एक भी हथियार ने साथ नहीं दिया। इस क्रम में जवानों ने पूरी कोशिश की, लेकिन गोलियां नहीं चलीं। इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के साथ ही जिले के तमाम वरीय पुलिस प्रशासन के पदाधिकारी भी मौजूद थे।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, अधिकारियों ने भी जवानों की समस्या जानने की कोशिश की और राइफल और गोली का जायजा लिया, लेकिन कोई उपाय नही ढूंढ़ सके। अंत में बिना हथियार से सलामी दिए अंत्येष्टि कार्य पूरा किया गया। इस बारे में किसी भी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कुछ भी नहीं कहा है। सुपौल के पुलिस अधीक्षक मृत्युंजय चौधरी ने मात्र इतना कहा कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कमेंट करें
5ZYSN