comScore

भंसाली बोले- फिल्म में पद्मावती और खिलजी के बीच कोई सेक्स सीन नहीं

November 10th, 2017 09:56 IST
भंसाली बोले- फिल्म में पद्मावती और खिलजी के बीच कोई सेक्स सीन नहीं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड फिल्म डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की अपकमिंग फिल्म पद्मावती लगातार विवादों में घिरी हुई है। कयास लगाए जा रहे हैं कि फिल्म में रानी पद्मावती और आक्रमणकारी अल्लाउद्दीन खिलजी के बीच सेक्स सीन है। मगर संजय लीला भंसाली ने एक वीडियो शेयर करते हुए साफ किया है कि फिल्म में रानी पद्मावती और खिलजी के बीच ऐसा कोई रोमांटिक ड्रीम सीक्वेंस (सेक्स सीन) नहीं है। इस बात का वे लिखित प्रमाण भी दे चुके हैं।

जानकारी के अनुसार वीडियो जारी कर भंसाली ने कहा है कि फिल्म में एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह के निभाए गए पात्रों के बीच कोई बातचीत नहीं है। उन्होंने कहा, 'यह एक तरह की अफवाह है, जो परियोजना के लिए हानिकारक साबित हुई और मैं इससे बहुत आहत हुआ हुं।' इससे पहले भी फिल्मफेयर को दिए एक इंटरव्यू में रणवीर सिंह ने भी कहा था कि दीपिका के साथ उनका कोई दृश्य नहीं है।

संजय लीला भंसाली ने वीडियो में कहा, 'मैंने यह फिल्म पद्मावती बहुत ईमानदारी, जिम्मेदारी और मेहनत से बनाई है। मैं रानी पद्मावती की कहानी से हमेशा प्रभावित रहा हूं और यह फिल्म उनकी वीरता और बलिदान को नमन करती है। हमने इस फिल्म को बहुत ही जिम्मेदारी से बनाया है। राजपुत मान और मर्यादा का ख्याल रखा है। मैं एक बार फिर दोहरा रहा हूं कि हमारी इस फिल्म में रानी पद्मावती और खिलजी के बीच ऐसा कोई रोमांटिक ड्रीम सीक्वेंस नहीं है।'

भंसाली ने एक वीडियो रिकॉर्डिंग से इस बात की घोषणा की है कि रानी पद्मावती और खिलजी के बीच कोई संपर्क नहीं हुआ है। भंसाली के करीब के एक सूत्र ने कहा, 'हम इस बात को साफ कर रह रहे हैं कि दीपिका और रणवीर में कोई ड्रीम सीक्वेंस नहीं है। उन्होंने एक दिन भी 'पद्मावती' की शूटिंग साथ नहीं की। हमें नहीं पता कि दोनों के साथ होने की अफवाह किसने शुरू की।'

इतिहास से छेड़छाड़ की इजाजत नहीं

इस बीच मुंबई भाजपा के महासचिव अमरजीत मिश्र ने भी केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री स्मृति इरानी को पत्र लिख कर कहा कि वे इस मामले में मध्यस्थता करें। मिश्र ने कहा कि रानी पद्मीनी के त्याग और वीरता से भारतीय इतिहास को गौरव मिला है। इसे कोई फिल्मकार बदल नहीं सकता। उसे इतिहास से खिलवाड़ करने की इजाजत नहीं दी जा सकती। भाजपा नेता ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर लोगों की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाई जा सकती। 

रिलीज से पहले इतिहासकारों को दिखाएं फिल्म 

इस दौरान महाराष्ट्र करणी सेना के संयोजक उमेद सिंह शेखावत ने कहा कि फिल्म सेंसर बोर्ड से पहले हिंदू इतिहासकारों को दिखाई जानी चाहिए अगर वे कहें कि फिल्म में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है, तो हम विरोध नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली को खुद सामने आकर हमारे सवालों के जवाब देना चाहिए।

कमेंट करें
6eKFl