comScore

श्रीलंका के सेना प्रमुख का दावा- आतंकियों ने कश्मीर में ली ट्रेनिंग

श्रीलंका के सेना प्रमुख का दावा- आतंकियों ने कश्मीर में ली ट्रेनिंग

हाईलाइट

  • ईस्टर बम धमाके को लेकर श्रीलंका सेना प्रमुख का दावा
  • सीरियल ब्लास्ट करने वाले आतंकी ट्रेनिंग के लिए कश्मीर और केरल गए थे

डिजिटल डेस्क, कोलंबो। श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर चर्च और होटलों में हुए सीरियल ब्लास्ट को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। श्रीलंका के सेना प्रमुख ने दावा किया है कि, बम धमाकों को अंजाम देने वाले कुछ हमलावरों ने ट्रेनिंग के लिए कश्मीर और केरल की यात्रा की थी। सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल महेश सेनानायक ने कहा, फिलहाल भारतीय सुरक्षा एजेंसियां इस मामले की जांच कर रही हैं।

बेंगलुरु और केरल भी गए हमलावर
सेनानायक ने कहा, खुफिया जानकारी के मुताबिक आतंकी कश्मीर के अलावा बेंगलुरु और केरल के कुछ हिस्सो में भी गए थे। एक इंटरव्यू में सेनानायक ने कहा, मुझे पूरी जानकारी नहीं है कि आतंकियों के भारत जाने का मुख्य मकसद क्या था, लेकिन यह तय है कि वे किसी तरह की ट्रेनिंग या दूसरे आतंकी संगठनों से संपर्क साधना चाहते थे। उन्होंने यह भी कहा, हमले को अंजाम देने के तरीके से लगता है आतंकियों ने इसकी साजिश स्थानीय नहीं बल्कि किसी बाहरी की मदद से बनाई थी। 

IS ने ली है हमले की जिम्मेदारी
भारत की तरफ से खुफिया जानकारी मिलने के सवाल पर सेना प्रमुख ने कहा, हमें इंटेलिजेंस इनपुट मिला था। हमारी मिलिट्री इंटेलिजेंस की जानकारी किसी और ही दिशा में थी। जानकारी साझा करने में जो परेशानी थी वो अब सबके सामने है। हालांकि, उन्होंने इस चूक के लिए किसी को भी जिम्मेदार ठहराने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, इस मामले को लेकर भारतीय जांच एजेंसी NIA ने तमिलनाडु और केरल में कुछ स्थानों पर छापे मारे हैं। जिसमें ISIS से संदिग्ध लिंक वाले कई लोगों को हिरासत में लिया गया है। बता दें कि श्रीलंका बम धमाकों की आतंकी संगठन IS ने ही जिम्मेदारी ली थी। वहीं भारतीय अधिकारियों के मुताबिक 2017 में दो आत्मघाती हमलावर भारत आए थे। हालांकि भारतीय गृह मंत्रालय ने श्रीलंका सेना प्रमुख के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं की है। 

300 से ज्यादा लोगों की हुई थी मौत
गौरतलब है कि 21 अप्रैल को श्रीलंका में हुए 8 बम धमाकों में 300 से ज्यादा लोग मारे गए थे। उनमें 10 भारतीयों समेत 39 विदेशी नागरिक भी शामिल थे। सीरियल ब्लास्ट के बाद से ही करीब 10 हजार सैनिक आतंकी ठिकानों पर छापेमारी में जुटे हैं। अब तक करीब 100 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। इसमें पाकिस्तानी नागरिकों का एक समूह भी शामिल है। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने शुक्रवार को कहा था इस्लामिक स्टेट से जुड़े 140 संदिग्धों की तलाश की जा रही है।

कमेंट करें
v8SN4