comScore

कोरोनवायरस: टोक्यो ओलंपिक गेम्स जल्द होंगे स्थगित, शिंजो आबे बोले-खेलों को रद्द किया जाना विकल्प नहीं

कोरोनवायरस: टोक्यो ओलंपिक गेम्स जल्द होंगे स्थगित, शिंजो आबे बोले-खेलों को रद्द किया जाना विकल्प नहीं

हाईलाइट

  • शिंजो आबे ने कहा, टोक्यो ओलंपिक गेम्स स्थगित किया जा सकता है, खेलों को रद्द किया जाना विकल्प नहीं
  • ओलंपिक गेम्स इसी साल 24 जुलाई से 9 अगस्त के बीच जापान की राजधानी टोक्यो में होना है
  • IOC ने कहा, ओलंपिक स्थगित करने का फैसला अगले 4 सप्ताह के भीतर लिया जाएगा

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने सोमवार को संसद में कहा कि, कोरोनवायरस के कारण ओलंपिक गेम्स को स्थगित किया जा सकता है। यह पहली बार है जब प्रधानमंत्री ने विश्व भर के खेल संगठनों से बन रहे दबाव के चलते खेलों को स्थगित करने की बात कही हो। वहीं दुनिया भर में कोरोनावायरस के बढ़ते खतरे को देखने हुए कनाडा और ऑस्ट्रेलिया ने जापान के टोक्यो में होने वाले ओलंपिक और पैरालंपिक गेम्स में अपने खिलाड़ियों को न भेजने का फैसला किया है। 

आबे ने कहा, इस स्थिति में खेलों का आयोजन करना मुश्किल है। अगर कोरोनोवायरस महामारी के कारण खेलों को पूरी तरह से कराया नहीं जा सका तो ओलिंपिक स्थगित कर दिए जाएंगे। एथलीटों की सुरक्षा सर्वोपरि है। आबे ने साथ ही कहा कि, खेलों को रद्द किया जाना विकल्प नहीं है। वहीं इंटरनेशनल ओलिंपिक समिति ने भी हालात का परीक्षण करने का फैसला लिया है। समिति ओलिंपिक स्थगित करने पर भी विचार कर रही है।

ओलंपिक स्थगित करने का फैसला अगले 4 सप्ताह के भीतर लिया जाएगा
इंटरनेशनल ओलंपिक समिति (IOC) ने कहा है कि, कोरोनावायरस के कारण टोक्यो ओलंपिक-2020 के स्थगित किया जाना एक विकल्प है। लेकिन उसने खेलों के महाकुंभ को रद्द करने की बात को मना कर दिया। पूरे विश्व भर से कई खिलाड़ियों के संगठनों, खेल महासंघों और खिलाड़ियों ने खेलों को स्थगित करने की मांग की है।

IOC अध्यक्ष थॉमस बाख ने कहा है कि, खेलों को रोकने का फैसला अगले चार सप्ताह के भीतर लिया जाएगा। ओलंपिक खेलों के बाद जापान की राजधानी में 25 अगस्त से 9 सितंबर के बीच पैरालंपिक खेलों का आयोजन होना है। अगर ओलंपिक स्थगित होते हैं तो इन खेलों को भी स्थगित किया जा सकता है।

यह खबर भी पढ़ें - कोरोनावायरस का डर: टोक्यो ओलंपिक गेम्स में अपने खिलाड़ी नहीं भेजेंगे कनाडा और ऑस्ट्रेलिया

बाख ने कहा है कि, यह खेल कब होंगे इसका फैसला अगले चार सप्ताह में लिया जाएगा। उन्होंने साथ ही कहा कि, टोक्यो खेलों को रद्द करना एजेंडा में नहीं है। उन्होंने कहा, इंसानी जान ने इस समय हर किसी पर अपनी प्रधानता साबित कर दी है। जिसमें खेल भी शामिल है। हम, जैसा हमने पहले संकेत दिए थे, कुछ अलग स्थिति के बारे में सोच रहे हैं।

कनाडा ओलंपिक समिति का बयान
कनाडा ओलंपिक समिति (COC) ने रविवार को दिए बयान में कहा कि, इसी साल 24 जुलाई से 9 अगस्त के बीच होने वाले ओलंपिक गेम्स अगर एक साल तक के लिए स्थगित नहीं हो जाते, तब तक वह अपने खिलाड़ियों को इन खेलों में नहीं भेजेगा।

बयान के मुताबिक, कनाडा ओलंपिक समिति (COC) और कनाडा पैरालंपिक समिति (CPC) ने एक मुश्किल फैसला लेते हुए तय किया है कि, वह 2020 ग्रीष्मकाल में होने वाले ओलंपिक गेम्स में अपनी टीम नहीं भेजेगा। इसमें हमें एथलीट कमिशन, नेशनल स्पोटर्स संगठन और कनाडा की सरकार का समर्थन हासिल है।

यह खबर भी पढ़ें- कोरोनावायरस का असर: IPL-2020 रद्द हुआ तो BCCI समेत किसे कितने करोड़ का नुकसान, जानें

समितियों ने ओलंपिक को एक साल के लिए स्थगित करने की मांग की
बयान के मुताबिक, COC और CPC ने तुरंत प्रभाव से इंटरनेशनल ओलंपिक समिति (IOC), इंटरनेशनल पैरालंपिक समिति (IPC) और विश्व स्वास्थ संगठन (WHO) से इन खेलों को एक साल के लिए स्थगित करने की मांग की है। खेलों का कार्यक्रम दोबारा तय करने में हम उन्हें अपना पूरा समर्थन देते है। उन्होंने कहा, हम स्थगित करने के पीछे आने वाले सभी संभावनाओं को समझते हैं। खिलाड़ियों और विश्व समुदाय की सुरक्षा और स्वास्थ से बढ़कर कुछ नहीं है।

यह खबर भी पढ़ें - कोरोनावायरस: रियल मेड्रिड के पूर्व अध्यक्ष लोरेंजो सांज की मौत, पाउलो देबाला और पाओलो माल्डिनी पॉजिटिव

ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक समिति का बयान
वहीं ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक समिति के कार्यकारी बोर्ड ने सोमवार को टेलीकॉन्फ्रेंस से बैठक की और सहमति व्यक्त की के, ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक टीम को दुनिया भर में बदलती परिस्थितियों को देखते हुए ओलंपिक गेम्स के लिए नहीं भेजा जाएगा। समिति ने यह भी कहा "हमारे एथलीटों को अब अपने स्वयं के स्वास्थ्य और उनके आसपास के लोगों को प्राथमिकता देने की जरूरत है, और उन्हें अपने परिवार वालों के साथ रहना चाहिए। 

जापान में अब तक 1719 से ज्यादा संक्रमित
जापान में अब तक 1719 से ज्यादा संक्रमितों की पुष्टि हो चुकी है। इस आंकड़े में लगातार इजाफा हो रही है। इसके चलते ओलिंपिक का मशाल जुलूस भी सादे तरीके से निकाला जा रहा है। दुनियाभर के देशों से होते हुए मशाल वापस जापान पहुंच चुकी है।

कमेंट करें
9T3nF