Tokyo Paralympics: अवनि ने शूटिंग में जीता गोल्ड, डिस्कस थ्रो में योगेश और जेवलिन में देवेंद्र ने जीता सिल्वर

August 30th, 2021

हाईलाइट

  • अवनि लखेरा ने शूटिंग में भारत को दिलाया गोल्ड
  • 10 मीटर AR राइफल के फाइनल में जीता गोल्ड मेडल
  • फाइनल मुकाबले में 249.6 पॉइंट हासिल किए

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। टोक्यो पैरालिंपिक में भारत को पहला गोल्ड मेडल मिल गया है। देश के लिए ये गोल्ड मेडल अवनि लेखरा ने जीता है। अवनि ने महिलाओं की 10 मीटर AR राइफल के फाइनल मुकाबले में 249.6 पॉइंट हासिल कर गेल्ड देश के नाम कर दिया। अवनि के 249.6 पॉइंट दिसंबर 2018 में यूक्रेन की इरिना शेटनिक द्वारा बनाए गए विश्व रिकॉर्ड के बराबर है। 

अवनि के पापा प्रवीण लेखरा का 2012 में जयपुर से धौलपुर जाने के दौरान एक्सीडेंट हो गया था। जिसमें उनके पापा और वह घायल हो गई। कुछ समय बाद उनके पापा स्वस्थ हो गए, परंतु अवनि को तीन महीने अस्पताल में बिताने पड़े, फिर भी रीड की हड्‌डी में चोट की वजह से वह खड़े और चलने में असमर्थ हो गईं। तब से व्हीलचेयर पर ही हैं।

 

अवनि के अलावा टोक्यो पैरालंपिक में देवेंद्र झाझरिया ने रजत पदक और भाला फेंक वर्ग F46 में सुंदर सिंह ने कांस्य पदक जीता। योगेश कठुनिया ने टोक्यो पैरालंपिक में डिस्कस थ्रो F56 में सिल्वर मेडल जीता। योगेश कठुनिया के घर बहादुरगढ़ में उनके परिवारजनों और रिश्तेदारों ने जश्न मनाया। इस जीत पर कठुनिया का कहना है कि मैंने सिल्वर मेडल जीता है, मुझे बहुत अच्छा लग रहा। मैं अपनी माँ और PCI(पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया) को धन्यवाद करना चाहता हूं। कठुनिया की मां मीना देवी ने कहा, सिल्वर मेडल ही मेरे लिए गोल्ड मेडल है। देश के लिए गोल्ड मेडल लाना बड़ी बात है। तीन साल तक वह व्हीलचेयर में रहा। मेहनत के लिए वह कभी पीछे नहीं हटता है।